Tag: बारिश

Prabhat Milind

बारिश के दिनों में नदी का स्मृति-गीत

'Barish Ke Dino Mein Nadi Ka Smriti Geet', Hindi Kavita by Prabhat Milind 1 स्वप्न में बहती है चौड़े पाट की एक नदी बेआवाज़ याद का कंकड़...
Spring, Flowers

अंतरा

बूँदें उतरी हैं धरा पर, मन पनीले हो गए हैं शुष्क सी हिय वीथियों के कोर गीले हो गए हैं तरु लताऐं दूब फसलें मुस्कुराती हैं...
Leaf, Rain, Night

तन्हाई की पहली बारिश

रात भर बरसता रहा पानी मैं अँधेरा किए अपनी कुर्सी में खिड़की से ज़रा दूर हटकर बैठा रहा बारिश कभी कम, कभी तेज़ बरसती रही, पेड़ों की चीख़ कभी दूर, कभी...
Rain

बारिश के बाद

'Barish Ke Baad', a poem by Vijay Rahi बारिश के बाद बबूल के पेड़ के नीचे से अपनी बकरियों को हाँक वह मुझसे मिलने आई। दूर नीम के पेड़...

बारिश

बारिश! पुनः प्रतीक्षा की बेला के पार तुम लौट आई हो असीम शांति धारण किए हुए... तुम्हारे बरसने के शोर में समाया है समूची प्रकृति का सन्नाटा... तुम्हीं तो रचती हो सम्पूर्ण...
Rain

बारिश और माँ

'Barish Aur Maa', Hindi Kavita by Vijay Rahi जब बारिश होती है सब कुछ रुक जाता है सिर्फ़ बारिश होती है रुक जाता है बच्चों का रोना चले जाते हैं...
Clouds

नई बदली के इश्तिहार

गर्मी में अचानक नम हो गए मौसम के लचीले काग़ज़ पर अगली नई बदली के इश्तहार निकलेंगे कर्क की दिशा में बढ़ते सूरज के दिनों वर्षा के आगामी...

STAY CONNECTED

26,311FansLike
5,944FollowersFollow
12,517FollowersFollow
231SubscribersSubscribe

MORE READS

कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)