Tag: Raushniyaan

Sarwat Zahra

बे परों की तितली

ये झाड़न की मिट्टी से मैं गिर रही हूँ ये पंखे की घूं-घूं में मैं घूमती हूँ ये सालन की ख़ुशबू पे मैं झूमती हूँ मैं बेलन से चकले पे बेली...
Arifa Shahzad

गुफ़्तगू नज़्म नहीं होती है

गुफ़्तगू के हाथ नहीं होते मगर टटोलती रहती है दर ओ दीवार फाड़ देती है छत शक़ कर देती है सूरज का सीना उंडेल देती है हिद्दत-अंगेज़ लावा ख़ाकिसतर...
Naina Adil

चार दीवारी में चुनी हुई औरत

बंद के उस तरफ़ ख़ुद उगी झाड़ियों में लगी रस भरी बेरियाँ ख़ूब तैयार हैं पर मेरे वास्ते उनको दामन में भर लेना मुमकिन नहीं ऐ...
Geetanjali

नीम का पेड़

मेरे मिट्टी के घर के पीछे था वो पेड़ बरसों से नीम का पेड़ जिस पे खेलते-चढ़ते थे अक्सर झूलते थे हम उसी की छांव में गर्मी की अपनी...
Shahnaz Nabi

मीर जी घर से जब भी निकलो

मीर जी घर से जब भी निकलो क़श्क़ा खींचो दैर में बैठो या अब तर्क इस्लाम करो नाम तो है पहचान तुम्हारी किस किस को समझाओगे अब तस्बीह के बिखरे...
Shivangi Goel

इज़्ज़त बरक़रार रहती है!

उसने मुझसे कहा कि मैं तुमसे 'प्रेम' करता हूँ ये भी कहा कि मैं अपनी पत्नी की 'इज़्ज़त' करता हूँ जब उसके शरीर से बह रहा...
Varsha Gorchhia

शायरा

मेरे होने की वारदात को पेज थ्री की रंगीन सुर्खियों की तरह पढ़ा जाता है मेरी शख़्सियत का सुडोल होना ज़रूरी है और जिस्म की तराश का भी घनी...
Nasim Syed

तुम्हारे बस में ये कब है

तुम हमारी लिखने वाली उँगलियों की शमएँ गुल कर दो हमारे लफ़्ज़ दीवारों में चुनवा दो हमारे नाम के उपले बनाओ अपनी दीवारों पे थोपो अपने चूल्हों में जला दो सब तुम्हारे...
Parveen Tahir

मेरी हस्ती मेरा नील कमल

मेरे ख़्वाब जज़ीरे के अंदर इक झील थी निथरे पानी की इस झील किनारे पर सुन्दर इक नील कमल जो खिलता था इस नील कमल के पहलू में इक...

ग्लोबल वॉर्मिंग

मेरे दिल की सतह पर टार जम गया हैसाँस खींचती हूँ तो खिंची चली आती है कई टूटे तारों की राख जाने कितने अरमान निगल गयी हूँ साँस...
Sophia Naz

लड़की (क़ंदील बलोच के नाम)

पतले नंगे तार से लटकी जलती, बुझती, बटती वो लड़की जो तुम्हारी धमकी से नहीं डरती वो लड़की जिसकी मांग टेढ़ी है अंधी तन्क़ीद की कंघी से नहीं सुलझती वो लड़की जिसकी हर...
Yasmeen Hameed

क्या करूँ

क्या करूँ मैं आसमां को अपनी मुट्ठी में पकड़ लूँ या समुन्दर पर चलूँ पेड़ के पत्ते गिनूँ या टहनियों में जज़्ब होते ओस के क़तरे चुनूँ डूबते सूरज को उंगली...

STAY CONNECTED

42,500FansLike
20,941FollowersFollow
29,113FollowersFollow
1,950SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Ekaterina Grigorova

बुल्गारियाई कवयित्री एकैटरीना ग्रिगरोवा की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा सामान्यता मुझे बाल्टिक समुद्र का भूरा पानी याद है! 16 डिग्री तापमान की अनंत ऊर्जा का भीतरी अनुशासन!बदसूरत-सी एक चीख़ निकालती है पेट्रा और उड़ जाता है आकाश में बत्तखों...
Naomi Shihab Nye

नेओमी शिहैब नाय की कविता ‘जो नहीं बदलता, उसे पहचानने की कोशिश’

नेओमी शिहैब नाय (Naomi Shihab Nye) का जन्म सेंट लुइस, मिसौरी में हुआ था। उनके पिता एक फ़िलिस्तीनी शरणार्थी थे और उनकी माँ जर्मन...
Vinita Agrawal

विनीता अग्रवाल की कविताएँ

विनीता अग्रवाल बहुचर्चित कवियित्री और सम्पादक हैं। उसावा लिटरेरी रिव्यू के सम्पादक मण्डल की सदस्य विनीता अग्रवाल के चार काव्य संग्रह प्रकाशित हो चुके...
Gaurav Bharti

कविताएँ: अगस्त 2022

विस्मृति से पहले मेरी हथेली को कैनवास समझ जब बनाती हो तुम उस पर चिड़िया मुझे लगता है तुमने ख़ुद को उकेरा है अपने अनभ्यस्त हाथों से।चारदीवारी और एक...
Nicoleta Crăete

रोमानियाई कवयित्री निकोलेटा क्रेट की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा औंधा पड़ा सपना प्यार दरअसल फाँसी का पुराना तख़्ता है, जहाँ हम सोते हैं! और जहाँ से हमारी नींद, देखना चाह रही होती है चिड़ियों की ओर!मत...
Daisy Rockwell - Geetanjali Shree

डेज़ी रॉकवेल के इंटरव्यू के अंश

लेखक ने अपनी बात कहने के लिए अपनी भाषा रची है, इसलिए इसका अनुवाद करने के लिए आपको भी अपनी भाषा गढ़नी होगी। —डेज़ी...
Kalam Ka Sipahi - Premchand Jeevani - Amrit Rai

पुस्तक अंश: प्रेमचंद : कलम का सिपाही

भारत के महान साहित्यकार, हिन्दी लेखक और उर्दू उपन्यासकार प्रेमचंद किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। प्रेमचंद ने अपने जीवन काल में कई रचनाएँ...
Priya Sarukkai Chabria

प्रिया सारुकाय छाबड़िया की कविताएँ

प्रिया सारुकाय छाबड़िया एक पुरस्कृत कवयित्री, लेखिका और अनुवादक हैं। इनके चार कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं जिनमें नवीनतम 'सिंग ऑफ़ लाइफ़ रिवीज़निंग...
aadhe adhoore mohan rakesh

आधे-अधूरे : एक सम्पूर्ण नाटक

आधे-अधूरे: एक सम्पूर्ण नाटक समीक्षा: अनूप कुमार मोहन राकेश (1925-1972) ने तीन नाटकों की रचना की है— 'आषाढ़ का एक दिन' (1958), 'लहरों के राजहंस' (1963)...
Kavita Mein Banaras

‘कविता में बनारस’ से कविताएँ

'कविता में बनारस' संग्रह में उन कविताओं को इकट्ठा किया गया है, जो अलग-अलग भाषाओं के कवियों ने अपने-अपने समय के बनारस को देख...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)