Tag: Sahej Aziz

Sahej Aziz

बंटू / दो हज़ार पचानवे

उसने शायद खाना नहीं खाया था। रोज़ तो सो जाता था दुबक के फैल के रेल प्लेटफ़ॉर्म पे बेंच के नीचे। क्यों सता रहा है आज उसे बारिश का शोर गीली चड्ढी और...
Sahej Aziz

लकड़ी की आह

उमर ख़ालिद के नामबढ़ई का काठ कुरेदना कड़घच्च कड़घच्च कड़घच्च ऐसी तो आवाज़ नहीं करता पर करता है जैसी भी उसका सीधा नाता है लकड़हारे के बीच जंगल में अकेले...
Sahej Aziz

लहू

ज़ख़्मी रॉनी की याद मेंसबसे दुखद एहसास होता है उसकी छुअन का याद आना जो मर चुका है– उसकी टाँग पे लगा लहू आपका उसको छूना उसका अकस्मात मुड़ के...
Sahej Aziz

नींद क्यों रात-भर नहीं आती

रात को सोना कितना मुश्किल काम हैदिन में जागने जैसा भी मुश्किल नहींपर, लेकिन तक़रीबन उतना हीन कोई पत्थर तोड़ा दिन-भर न ईंट के भट्ठे में...
Sahej Aziz

चाबियाँ लैपटॉपों की

जैसे पागलों के सींग नहीं होते ऐसे ही आज़ादों के पंख नहीं होतेपर देखा जाए (ग़ौर से) तो होते हैं रंग स्वादों के पेट भ्रष्टों के जूते रईसों के चीथड़े मुफ़लिसों...
Sahej Aziz

इंट्रोस्पेक्शन

आसमाँ का पट कहाँ है पट कहाँ है चाँद का पट में छुप के बादलों के एक सूरज ताकता झाँके बुलबुल पेड़ से छिप कोपलों की आड़ ले और मैं झाँकूँ दूसरों में बस के...
Sahej Aziz

क्रांति: दो हज़ार पचानवे

हा हा हा हा हा हा यह भी कैसा साल है मैं ज़िंदा तो हूँ नहीं पर पढ़ रहा है मुझको कोई सोच रहा है कैसे मैंने सोचा है तब...

STAY CONNECTED

38,332FansLike
19,561FollowersFollow
27,906FollowersFollow
1,660SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Abstract, Time

चींटी और मास्क वाले चेहरे

स्वप्न में दिखती है एक चींटी और मास्क वाले चेहरे चींटी रेंगती है पृथ्वी की नाल के भीतर मास्क वाले चेहरे घूमते हैं भीड़ मेंसर से...
Abstract, Woman

जीवन सपना था, प्रेम का मौन

जीवन सपना था आँखें सपनों में रहीं और सपने झाँकते रहे आँखों की कोर से यूँ रची हमने अपनी दुनिया जैसे बचपन की याद की गईं कविताएँ हमारा दुहराया...
Kedarnath Singh

फ़र्क़ नहीं पड़ता

हर बार लौटकर जब अन्दर प्रवेश करता हूँ मेरा घर चौंककर कहता है 'बधाई'ईश्वर यह कैसा चमत्कार है मैं कहीं भी जाऊँ फिर लौट आता हूँसड़कों पर परिचय-पत्र माँगा...
Naveen Sagar

वह मेरे बिना साथ है

वह उदासी में अपनी उदासी छिपाए है फ़ासला सर झुकाए मेरे और उसके बीच चल रहा हैउसका चेहरा ऐंठी हुई हँसी के जड़वत् आकार में दरका है उसकी आँखें बाहर...
Nurit Zarchi

नूइत ज़ारकी की कविता ‘विचित्रता’

नूइत ज़ारकी इज़राइली कवयित्री हैं जो विभिन्न साहित्य-सम्बन्धी पुरस्कारों से सम्मानित हैं। प्रस्तुत कविता उनकी हीब्रू कविता के तैल गोल्डफ़ाइन द्वारा किए गए अंग्रेज़ी...
Sunset

कितने प्रस्थान

सूरज अधूरी आत्महत्या में उड़ेल आया दिन-भर का चढ़ना उतरते हुए दृश्य को सूर्यास्त कह देना कितना तर्कसंगत है यह संदेहयुक्त है अस्त होने की परिभाषा में कितना अस्त हो जाना दोबारा...
Naresh Mehta

कवच

मैं जानता हूँ तुम्हारा यह डर जो कि स्वाभाविक ही है, कि अगर तुम घर के बाहर पैर निकालोगे तो कहीं वैराट्य का सामना न हो जाए, तुम्हें...
Vishesh Chandra Naman

मैं

मैं एक तीर था जिसे सबने अपने तरकश में शामिल किया किसी ने चलाया नहींमैं एक फूल था टूटने को बेताब सबने मुझे देखा, मेरे रंगों की तारीफ़ की और मैं...
Gaurav Bharti

कविताएँ: नवम्बर 2021

यात्री भ्रम कितना ख़ूबसूरत हो सकता है? इसका एक ही जवाब है मेरे पास कि तुम्हारे होने के भ्रम ने मुझे ज़िन्दा रखातुम्हारे होने के भ्रम में मैंने शहर...
God, Abstract Human

कौन ईश्वर

नहीं है तुम्हारी देह में यह रुधिर जिसके वर्ण में अब ढल रही है दिवा और अँधेरा सालता हैरोज़ थोड़ी मर रही आबादियों में रोज़ थोड़ी बढ़ रही...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)