Tag: Sindhi Kavita

Rose, Flower

कौन है

कौन है जो बन्दूक की नली से गुलाब को घायल कर रहा है? कौन है जो बन्सरी की चोट से किसी का सर फोड़ रहा है? कौन है जो बाल-मन्दिर की...
Chauraha, Street, Road, Signal

चौराहे पर घर

अनुवाद: श्याम जयसिंघाणी कल तक मेरा घर एक चौराहे पर था पर आज सवेरे घर के बाहर लठधर चौकीदार की जगह बन्दूकधारी जवान तैनात था और चौराहा गुम था। रात भर में...
Rose, Flower, Hand

कुछ लघु काव्य

रूपान्तर: नामदेव 1 एकलव्य की गुरु-दक्षिणा: लटका दो— सर द्रोणाचार्य का युगों तक! 2 दर्द ने मेरा सीना चीरकर मौत को टाल दिया! 3 सिन्धु! तेरे सीने पर छोड़े हैं पद-चिह्न अपनी तहज़ीब के! 4 सूर्य को जब हथेली से न ढाँक...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)