ठाकुर का कुआँ

‘Thakur Ka Kuan’, a poem by Omprakash Valmiki

चूल्‍हा मिट्टी का
मिट्टी तालाब की
तालाब ठाकुर का

भूख रोटी की
रोटी बाजरे की
बाजरा खेत का
खेत ठाकुर का

बैल ठाकुर का
हल ठाकुर का
हल की मूठ पर हथेली अपनी
फ़सल ठाकुर की

कुआँ ठाकुर का
पानी ठाकुर का
खेत-खलिहान ठाकुर के
गली-मुहल्‍ले ठाकुर के
फिर अपना क्‍या?
गाँव?
शहर?
देश?

यह भी पढ़ें: ओमप्रकाश वाल्मीकि की कविता ‘कविता और फ़सल’

Book by Omprakash Valmiki: