जेफ़री मैकडैनियल (Jeffrey McDaniel) के पाँच कविता संग्रह आ चुके हैं, जिनमें से सबसे ताज़ा है ‘चैपल ऑफ़ इनडवर्टेंट जॉय’ (यूनिवर्सिटी ऑफ़ पिट्सबर्ग प्रेस, 2013)। अन्य पुस्तकों में ‘द एंडारकेनमेंट’ (पिट्सबर्ग, 2008), ‘द स्प्लिंटर फ़ैक्ट्री’ (मैनिक डी, 2002), ‘द फ़ॉरगिवनेस परेड’ (मैनिक डी प्रेस, 1998), और ‘एलाबाई स्कूल’ (मैनिक डी, 1995) शामिल हैं। उनकी कविताएँ कई पत्रिकाओं और संकलनों में छप चुकी हैं, जिनमें बेस्ट अमेरिकन पोएट्री (1994 और 2010) शामिल हैं। एनईए फ़ैलोशिप के प्राप्तकर्ता जेफ़री सारा लॉरेंस कॉलेज में पढ़ाते हैं और हडसन वैली में रहते हैं। (परिचय साभार: पोएट्री फ़ाउंडेशन)

यहाँ प्रस्तुत कविता पोएट्री फ़ाउंडेशन पर उपलब्ध उनकी कविता ‘The Quiet World’ का हिन्दी अनुवाद है, अनुवाद देवेश पथ सारिया ने किया है।

चुपचाप संसार

‘The Quiet World’ from The Forgiveness Parade

इस कोशिश में कि लोग और ज़्यादा झाॅंकें
एक-दूसरे की आँखों में,
और चुप्पों को संतुष्ट करने के लिए,
सरकार ने तय किया है
कि हर आदमी को आवंटित होंगे बोलने के लिए
दिन में मात्र एक सौ सड़सठ शब्द।

फ़ोन बजने पर
मैं बिना हेलो कहे, उसे अपने कान पर लगाता हूॅं।
रेस्त्राँ में, चिकन नूडल सूप की ओर इशारा करता हूॅं।
मैं इन नये तरीक़ों की आदत डाल रहा हूँ।

देर रात मैं फ़ोन मिलाता हूॅं अपनी दूरस्थ प्रेयसी को,
गर्व से कहता हूॅं—
मैंने आज सिर्फ़ उनसठ ख़र्चे
और बाक़ी बचा लिए तुम्हारे लिए

जब वह जवाब नहीं देती,
मैं जान जाता हूॅं
कि वह अपने सभी शब्द इस्तेमाल कर चुकी है
इसलिए मैं धीरे-धीरे बुदबुदाता हूॅं आई लव यू
बत्तीस और एक तिहाई बार।
फिर हम चुपचाप लाइन पर बने रहते हैं
और एक-दूसरे की साँसों को सुनते हैं।

जॉन गुज़लॉवस्की की कविता ‘मेरे लोग’

किताब सुझाव:

Previous article‘अन्तस की खुरचन’ से कविताएँ
Next articleटी. एस. ईलियट के प्रति
देवेश पथ सारिया
प्राथमिक तौर पर कवि। गद्य लेखन में भी सक्रियता।पुस्तकें: 1. 'नूह की नाव' (2021) : प्रथम कविता संग्रह साहित्य अकादमी दिल्ली से। 2. 'हक़ीक़त के बीच दरार' (2021): वरिष्ठ ताइवानी कवि ली मिन-युंग के कविता संग्रह का हिंदी अनुवाद। 3. ताइवान प्रवास के अनुभवों पर आधारित गद्य की पुस्तक शीघ्र प्रकाश्य।अन्य भाषाओं में प्रकाशन: कविताओं का अनुवाद मंदारिन चायनीज़, रूसी, स्पेनिश, पंजाबी, बांग्ला और राजस्थानी भाषा-बोलियों में हो चुका है। इन अनुवादों का का प्रकाशन लिबर्टी टाइम्स, लिटरेरी ताइवान, ली पोएट्री, यूनाइटेड डेली न्यूज़, बाँग्ला कोबिता, प्रतिमान और कथेसर पत्र-पत्रिकाओं में हुआ है।साहित्यिक पत्रिकाओं में प्रकाशन: हंस, नया ज्ञानोदय, वागर्थ, कथादेश, कथाक्रम, परिकथा, पाखी, अकार, आजकल, बनास जन, मधुमती, अहा! ज़िन्दगी, कादंबिनी, समयांतर, समावर्तन, बया, उद्भावना, जनपथ, नया पथ, कथा, साखी, आधारशिला, दोआबा, बहुमत, परिंदे, प्रगतिशील वसुधा, शुक्रवार साहित्यिक वार्षिकी, कविता बिहान, साहित्य अमृत, शिवना साहित्यिकी, गाँव के लोग, किस्सा कोताह, कृति ओर, ककसाड़, सृजन सरोकार, अक्षर पर्व, निकट, मंतव्य, गगनांचल, मुक्तांचल, उदिता, उम्मीद, विश्वगाथा, रेतपथ, अनुगूँज, प्राची, कला समय, प्रेरणा अंशु, पुष्पगंधा आदि ।वेब प्रकाशन: सदानीरा, जानकीपुल, पोषम पा, लल्लनटॉप, हिन्दीनेस्ट, हिंदवी, कविता कोश, इंद्रधनुष, अनुनाद, बिजूका, पहली बार, समकालीन जनमत, मीमांसा, शब्दांकन, अविसद, कारवां, हमारा मोर्चा, साहित्यिकी, द साहित्यग्राम, लिटरेचर पॉइंट, अथाई, हिन्दीनामा।समाचार पत्रों में प्रकाशन: राजस्थान पत्रिका, दैनिक भास्कर, प्रभात ख़बर, दि सन्डे पोस्ट।सम्मान: प्रभाकर प्रकाशन, दिल्ली द्वारा आयोजित लघुकथा प्रतियोगिता में प्रथम स्थान (2021) ।संप्रति: ताइवान में पोस्ट डाॅक्टरल शोधार्थी। मूल रूप से राजस्थान के राजगढ़ (अलवर) से संबंध।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here