बनाना तोड़ने से कुछ बड़ा है
हमारे मन को हम ऐसा सिखाएँ
गढ़न के रूप की झाँकी सरस है
वही झाँकी जगत को हम दिखाएँ

बखेरें बीज ज़्यादा प्यार के ही
कहीं काँसों से गो लड़ना पड़ेगा
हमें इस आज के संघर्ष में से
सनेही-शांति तक बढ़ना पड़ेगा

लड़ें तो एक लाचारी समझकर
न लड़ने का कभी गुन-गान सूझे
घृणा को आँख का करके सितारा
अजल से आज तक, हर बार, जूझे

मगर उस जूझ से कुछ भी न सुधरा
हमेशा बात बिगड़ी है ज़ियादा
तो इसकी गाँठ अबके बाँध लें हम
हमारे देश का फ़र्ज़ी पियादा।

भवानीप्रसाद मिश्र की कविता 'लाओ अपना हाथ'

Book by Bhawani Prasad Mishra:

Previous articleमौन
Next articleतप करके हम
भवानी प्रसाद मिश्र
भवानी प्रसाद मिश्र (जन्म: २९ मार्च १९१४ - मृत्यु: २० फ़रवरी १९८५) हिन्दी के प्रसिद्ध कवि तथा गांधीवादी विचारक थे। वे दूसरे तार-सप्तक के एक प्रमुख कवि हैं। गाँधीवाद की स्वच्छता, पावनता और नैतिकता का प्रभाव तथा उसकी झलक उनकी कविताओं में साफ़ देखी जा सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here