तुम कहाँ हो?

यहाँ नहीं
वहाँ नहीं

शायद अन्दर हो
पर हर कन्दरा के मुख पर
भारी शिला का बोझ है

मैं भी
यहाँ नहीं
वहाँ नहीं
शायद अन्दर हूँ

पर यह जो बाहर है
मेरा यह ‘मैं’
यह स्वयं एक शिला है
अन्दर के मार्ग पर रखा
एक कठिन अवरोध

और यों मेरा
स्वयं तक न पहुँच पाना
एक ऐसी दूरी है
जो सदा एक प्रश्न की तरह
ध्वनित होती रहती है

तुम कहाँ हो?

अमृता भारती की कविता 'जब कोई क्षण टूटता'

Book by Amrita Bharti:

Previous articleसच बोलना ही कविता है
Next articleजाने वो कौन था
अमृता भारती
जन्म: 16 फ़रवरी, 1939हिन्दी की सुपरिचित कवयित्री।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here