एक कविता कहती है—
“यथार्थ झूठ है, कल्पना सच है।”

तुम मेरी कल्पनाओं का हिस्सा हो
इसलिए सच हो।

जिस किसी दिन,
ज़िन्दगी
बेबस कर देगी मुझे
स्वीकारने को यथार्थ,
डरता हूँ
कहीं स्वीकार न लूँ
कल्पनाओं का कोरापन!

उस दिन,
तुम्हें यकीनन खो दूँगा मैं।

Previous articleजब मैं तुम्हें देख रहा होता हूँ
Next articleआईना
विक्रांत मिश्र
उत्तर प्रदेश के गोरखपुर से हैं। साहित्य व सिनेमा में गहरी रुचि रखते हैं। किताबें पढ़ना सबसे पसंदीदा कार्य है, सब तरह की किताबें। फिलहाल दिल्ली में रहते हैं, कुछ बड़ा करने की जुगत में दिन काट रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here