तुमने क्यों ने कही मन की?

रहे बंधु तुम सदा पास ही
खोज तुम्हें, निशि दिन उदास ही
देख व्यथित हो लौट गई मैं,
तुमने क्यों न कही मन की?

तुम अंतर में आग छिपाए
रहे दॄष्टि पर शांति बिछाए
मैं न भूल समझी जीवन की
तुमने क्यों न कही मन की?

खो मुझको जब शून्य भवन में
तुम बैठे धर मुझे नयन में
कर उदास रजनी यौवन की
कहते करुण कथा मन की!

मैं न सुधा लेकर हाथों में
आई उन सूनी रातों में
स्मिति बन कर न जीवन की
मैं बन गई व्यथा जीवन की!

जब मैं अब दूर जा चुकी
रो-रो निज सुख-दुख सुला चुकी
अब मैं केवल विवश बंधन में
कहते क्यों मुझ से मन की?

तुमने क्यों न कही मन की?

Previous articleनिर्जला
Next articleतीसरा रास्ता
चन्द्रकुँवर बर्त्वाल
चन्द्र कुंवर बर्त्वाल (20 अगस्त 1919 - १९४७) हिन्दी के कवि थे। उन्होंने मात्र 28 साल की उम्र में हिंदी साहित्य को अनमोल कविताओं का समृद्ध खजाना दे दिया था। समीक्षक चंद्र कुंवर बर्त्वाल को हिंदी का 'कालिदास' मानते हैं। उनकी कविताओं में प्रकृतिप्रेम झलकता है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here