‘Udaan’, a poem by Poonam Sonchhatra

उसने कहा-
“गिरना नियति है,
संसार की प्रत्येक वस्तु गुरुत्वाकर्षण के अधीन होती है… ”

मैंने कहा-
“यह नियम राख पर लागू होता है,
अग्नि की लपटों पर नहीं!
मैं उड़ने के लिए बनी हूँ
केवल और केवल ऊपर उठने के लिए…”

बाज़ आख़िर कब घोसलें बनाते हैं?

Previous articleबच्चे
Next articleये जो ज़िन्दगी है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here