सबसे ज़्यादा असुरक्षित हैं वो
जो रहते हैं सबसे छोटी झोंपड़ी में

सबसे दुर्दान्त अपराधियों के पास हैं
सबसे महँगे वकील

सबसे कपटी नेता का चरित्र
सबसे साफ़ है मीडिया में

सबसे ज़्यादा बिकाऊ है वो ख़बर
जो ख़ून से सबसे ज़्यादा लाल है

सबसे कमजोर नींव
मज़दूर के कमरे की है

सबसे मज़बूत ईंट
मंदिर की बुनियाद में है

चाँदी का ईश्वर सार्वजनिक
पूजाघरों में है,
सोने का ईश्वर सुनारों के यहाँ
काँच के शीशों मे बंद है,
मिट्टी का ईश्वर जगह-जगह…
असली ईश्वर का पता
मुझे नहीं पता!

Recommended Book:

Previous articleक्या-क्या मारोगे?
Next articleमेरे और तुम्हारे बीच

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here