वाँ अगर जाएँ तो ले कर जाएँ क्या
मुँह उसे हम जा के ये दिखलाएँ क्या

दिल में है बाक़ी वही हिर्स-ए-गुनाह
फिर किए से अपने हम पछताएँ क्या

आओ लें उस को हमीं जा कर मना
उसकी बेपरवाइयों पर जाएँ क्या

दिल को मस्जिद से न मंदिर से है उन्स
ऐसे वहशी को कहीं बहलाएँ क्या

जानता दुनिया को है इक खेल तू
खेल क़ुदरत के तुझे दिखलाएँ क्या

उम्र की मंज़िल तो जूँ तूँ कट गई
मरहले अब देखिए पेश आएँ क्या

दिल को सब बातों की है नासेह ख़बर
समझे समझाए को बस समझाएँ क्या

मान लीजे शेख़ जो दावा करे
इक बुज़ुर्ग-ए-दीं को हम झुठलाएँ क्या

हो चुके ‘हाली’ ग़ज़ल-ख़्वानी के दिन
रागनी बे-वक़्त की अब गाएँ क्या।

Previous articleमाँ
Next articleजम्बक की डिबिया
अल्ताफ़ हुसैन हाली
अल्ताफ हुसैन हाली (1837–1914) उर्दू के प्रसिद्ध कवि एवं लेखक थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here