यूँही वाबस्तगी नहीं होती
दूर से दोस्ती नहीं होती

जब दिलों में ग़ुबार होता है
ढंग से बात भी नहीं होती

चाँद का हुस्न भी ज़मीन से है
चाँद पर चाँदनी नहीं होती

जो न गुज़रे परी-वशों में कभी
काम की ज़िंदगी नहीं होती

दिन के भूले को रात डसती है
शाम को वापसी नहीं होती

आदमी क्यूँ है वहशतों का शिकार
क्यूँ जुनूँ में कमी नहीं होती

इक मरज़ के हज़ार हैं नब्बाज़
फिर भी तश्ख़ीस ही नहीं होती..

Previous articleस्वार्थ
Next articleगणित का गीत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here