मैं सिर्फ और सिर्फ एक चीज हूँ और वह है जोकर। यह मुझे राजनीतिज्ञों की तुलना में कहीं ऊँचे आसन पर स्थापित करता है।

मैं ईश्वर के साथ मजे में हूँ, मेरा टकराव इंसानों के साथ है।

मैं एक निर्धन सम्राट की तुलना में जल्द से जल्द एक सफल धूर्त कहलाना पसंद करूँगा।

कविता को अर्थपूर्ण होने की आवश्यकता क्या है?

मैं ऐसी सुन्दरता के साथ बहुत देर नहीं रह सकता जिसे समझने के लिए उस की व्याख्या करनी पड़े।

हम सोचते बहुत हैं और महसूस बहुत कम करते हैं।

जिंदगी क्लोज-अप में ट्रेजेडी है, लेकिन लाँग-शॉट में कॉमेडी।

जिंदगी बढ़िया हो सकती है बशर्ते लोग हमें अकेला छोड़ दें।

मुझे लगता है कि सही समय पर गलत काम करना जीवन की विडंबनाओं में से एक है।

सब से दुखद चीज जिसकी मैं कल्पना कर सकता हूँ वह है विलासिता का आदी होना।

इस मक्कार दुनिया में कुछ भी स्थायी नहीं है, यहाँ तक कि हमारी परेशानियाँ भी।

एक आवारा, एक सज्जन, एक कवि, एक सपने देखने वाला, एक अकेला आदमी – ये हमेशा रोमांस और रोमांच की उम्मीद करते हैं।

सच में हँसने के लिए आप को अपनी पीड़ा के साथ खेलने में सक्षम होना चाहिए।

मनुष्य एक व्यक्ति के रूप में प्रतिभाशाली है। लेकिन भीड़ के बीच वह एक नेतृत्वहीन राक्षस बन जाता है, एक महामूर्ख जानवर जिसे जहाँ हाँका जाए वहाँ चला जाता है।

जरूरतमंद दोस्त की मदद करना आसान है, लेकिन उसे अपना समय देना हमेशा संभव नहीं हो पाता।

मेरी सभी फिल्में मुश्किल में पड़ने की योजना के इर्द-गिर्द बनती हैं, इसलिए मुझे गंभीरता से एक छोटा-मोटा सज्जन व्यक्ति दिखने का मौका देती हैं।

एक कॉमेडी फिल्म बनाने के लिए मुझे बस एक पार्क, एक पुलिसकर्मी और एक सुन्दर लड़की की जरूरत होती है।

मैं पैसों के लिए बिजनेस में गया, और वहीं से कला पैदा हुई। यदि इस टिप्पणी से लोगों का मोह भंग होता है तो मैं कुछ नहीं कर सकता। यही सच है।

अब मेरे लिए अमेरिका का कोई उपयोग नहीं है. यदि ईसा मसीह भी वहाँ के राष्ट्रपति बन जाएँ तो भी मैं वहाँ वापस नहीं जाऊँगा।

आप मतलब क्यों जानना चाहते हैं? जिंदगी इच्छा है, मतलब नहीं।

यह दुनिया बेरहम है और इसका सामना करने के लिए आप को भी बेरहम होना होगा।

अभिनेता ठुकराए जाने की तलाश करते हैं। यदि उन्हें यह नहीं मिलता तो वे खुद को ठुकरा देते हैं।

मैं लोगों के लिए हूँ। इसे छोड़ कर मेरे लिए कोई रास्ता नहीं है।

मैं यकीन नहीं करता कि जनता जानती है कि उसे क्या चाहिए; मैंने अपने करियर से यही निष्कर्ष निकाला है।

सिनेमा सनक है। दर्शक वास्तव में स्टेज पर जीवंत अभिनेताओं को देखना चाहते हैं।

अंतत: तो सब कुछ एक ढकोसला है।


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

उद्धरण | Quotes

पाब्लो पिकासो – कुछ पंक्तियाँ/उद्धरण

पाब्लो पिकासो – कुछ पंक्तियाँ/उद्धरण (अनुवाद: मनोज पटेल) कला एक झूठ है जो सत्य जानने में हमारी सहायता करती है। हर वह चीज वास्तविक है जिसकी तुम कल्पना कर सकते हो। सभी बच्चे कलाकार होते Read more…

उद्धरण | Quotes

‘झूठा सच’ से यशपाल की कुछ पंक्तियाँ/उद्धरण

‘झूठा सच’ से यशपाल की कुछ पंक्तियाँ/उद्धरण “सच को कल्पना से रंग कर उसी जन समुदाय को सौंप रहा हूँ जो सदा झूठ से ठगा जाकर भी सच के लिए अपनी निष्ठा और उसकी ओर Read more…

उद्धरण | Quotes

‘स्त्रियों के लिए नसीहतें’ – माया एंजेलो

‘स्त्रियों के लिए नसीहतें’ – माया एंजेलो  (अनुवाद: विपिन चौधरी) 1. एक औरत के पास अपने नियंत्रण में पर्याप्त पैसा होना चाहिए ताकि बाहर जाते वक्त या खुद के लिए एक जगह किराए पर लेकर वह Read more…

error:
%d bloggers like this: