पत्र | Letters

‘पगली का पत्र’ – अयोध्या सिंह उपाध्याय हरिऔध

‘पगली का पत्र’ – अयोध्या सिंह उपाध्याय हरिऔध तुम कहोगे कि छि:, इतनी स्वार्थ-परायणता! पर प्यारे, यह स्वार्थ-परायणता नहीं है, यह सच्चे हृदय का उद्गार है, फफोलों से भरे हृदय का आश्वासन है, व्यथित हृदय Read more…

By Posham Pa, ago

Copyright © 2018 पोषम पा — All rights reserved.




Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.


error: