विवशता

'विवशता' - सीताराम द्विवेदी जब जब मैंने, धरती पर, सनी धूल में, शोकालीन लता को चाहा- फिर से डालना बाँहों…

Continue Reading
Close Menu
error: