एक प्रश्न

जिस तरह मैं पढ़ लेती हूँ
तुम्हारा मौन
तुम क्यों नहीं पढ़ पाते
मौन मेरा
कौन रोकता है तुम्हें
मेरा मैं होना
या
तुम्हारा तुम?

***

अमनदीप/ विम्मी