लाठी

जो
भगवान को मानता है
वह लँगड़ा है
और उसे
बैसाखियों की ज़रूरत है,

जो
भगवान को नहीं मानता
वह अन्धा है
उसे
लाठी की ज़रूरत है,

आपको
तय सिर्फ़ इतना करना है
कि लाठी, आप
अन्धे होकर उठाना चाहेंगे
या लँगड़े होकर?