‘विवशता’ – सीताराम द्विवेदी

जब जब मैंने, धरती पर,
सनी धूल में,
शोकालीन लता को चाहा-
फिर से डालना बाँहों में वृक्ष की,
तभी
आँधी के झौंके से धूल भरी-
आँखें हो गयीं लाल।

थोड़ा संभलकर,
आँधी से छिन्नांग लता को
अपने हाथों से चाहा-
शाखा की सेज सुला दूँ,
तभी,
बरस पड़े मूसलाधार
प्रलय के मेघ।

भयंकर जंगल में (राजनीति के),
अनुशासन हीन हवाओं से,
बुझाये गये दीप को
मत सोचो अपनी सुरक्षा,
सुरक्षा की कथा-
पत्थरों पर खुद गयी है,
वह बन गयी दीवार-
प्रगति में (अन्ध प्रजा की)।

वह प्रकृति नहीं है,
और प्रकृति है तो
व्यवहार नहीं है।
राजनीति की कथा,
क्या कथा!

■■■

चित्र श्रेय: Aaron Burden


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

कविताएँ | Poetry

‘देर से, बहुत देर से बतानी चाहिए जाने की ख़बर!!’ – गौरव अदीब की नयी कविताएँ

गौरव अदीब की कुछ नयी कविताएँ गौरव सक्सेना ‘अदीब’ बतौर स्पेशल एजुकेटर इंटरनेशनल स्कूल में कार्यरत हैं और थिएटर व शायरी में विशेष रुचि रखते हैं। दस वर्षों से विभिन्न विधाओं में लेखन के साथ-साथ Read more…

कविताएँ | Poetry

कविता: ‘अब माँ शांत है!’ – शिवा

‘अब माँ शांत है!’ – शिवा मुझे लोगों पर बहुत प्यार आया ज़रा संकोच न हुआ मैंने प्यार बरसा दिया अब मन शांत है मुझे लोगों पर बहुत गुस्सा आया ज़रा संकोच हुआ मैंने माँ Read more…

कविताएँ | Poetry

‘जेठ’ पर हाइकु

‘जेठ’ पर हाइकु जेठ (ज्येष्ठ) हिन्दू पंचांग के अनुसार साल का तीसरा महीना होता है और इस माह को गर्मी का महीना भी कहा जाता है। आई. आई. टी. रुड़की में कार्यरत रमाकांत जी ने Read more…

error:
%d bloggers like this: