‘जी’ – बालकृष्ण भट्ट

साधारण बातचीत में यह जी भी जी का जंजाल सा हो रहा है। अजी बात ही चीत क्‍या जहाँ और जिसमें देखो उसी में इस जी से जीते जी छुटकारा नहीं देख पड़ता। साहब यह आप क्‍या कहते हैं जी से जी को राहत है, जी मत चुराओं, हम जो कहें उसे सुनते चलो और इस जी की उलझी गाँठ सुलझाते जाओ। बहुतों के नाम में यह जी गोट जी लगी है जैसा जीयाजी, जीवरामजी, जीवनदासजी, जीतूजी, बाजी रावजी, धरमजीतजी, अजीत सिंह जी, परसूजी इत्‍यादि अब काम में जी को लीजिए, रसोई जीवन, बाजी बद कर लड़ना, जीवनदान देना, जीमार, जीविका न मार एवं जी लगाना, जी पर खेल जाना, जी में उतार देना, जी दुखाना, जी कुढ़ाना, जी चुभाना, जी चुराना, जी लेना, जी देना, जी उचाटना, जी बिगड़ना, जी फटना, जी बहलाना, जी हटाना, जी मारना इत्‍यादि जंग में गाजी, दो फरीकों में राजी, मियाँ बीबी राजी तो क्‍या करे काजी, कुत्‍तों में ताजी, आदमियों शाह जी लाला जी, हिंदुस्‍तान का हित चाहने वालों में दादा भाई नैरोजी, नीच निकृष्‍टों में पाजी, साग में भाजी, मुसलमानों में हाजी, मेवाओं में चिरौंजी, मसालें में जीरा, फलों में अंजीर, स्त्रियों के आभूषण में जंजीर पुकारने में हाँ जी, जी हाँ, हाँ के आदि में अंत में भी वही जी।

कितने कहते हैं फलाने पधार गए, गुजर गए, अमुक जी नाम कायम रखने को ये-ये काम कर गए, बहुतेरे जी बहलाने को हवा खाने जाते हैं, जी की लगन हर घड़ी प्‍यारे के ध्‍यान में मगन। कितने शब्‍दों में इस जी के कारण जानो जान सी पिरोह दी गई है जैसा अरजी, गरजी, मरजी, दरजी, करजी, इनमें से जी को अलग कर डालिए, मानो उन शब्‍दों की जान निकाल ली गई; तब अर, गर, मर, दर, कर, सब बेकार हैं। नाते, रिश्‍ते में जीजी, भौजी, भावजी, भतीजी, माँजी इस जी में सजीव हैं। अंत में अब इस जी के गोरख धंधे को कहाँ तक सुलझावें जी की खोज करने जी घबराय गया तो अब जी के जंजाल को समाप्‍त करते हैं।

■■■


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

निबन्ध | Essay

खड़ी बोली में प्रथम सफल कविता आप ही कर सके हैं।

‘कविवर श्री सुमित्रानन्दन पन्त’ – सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ “मग्न बने रहते हैं मोद में विनोद में क्रीड़ा करते हैं कल कल्पना की गोद में, सारदा के मन्दिर में सुमन चढ़ाते हैं प्रेम का ही पुण्यपाठ Read more…

निबन्ध | Essay

‘आचरण की सभ्यता’ – सरदार पूर्ण सिंह

‘आचरण की सभ्यता’ – सरदार पूर्ण सिंह विद्या, कला, कविता, साहित्‍य, धन और राजस्‍व से भी आचरण की सभ्‍यता अधिक ज्‍योतिष्‍मती है। आचरण की सभ्‍यता को प्राप्‍त करके एक कंगाल आदमी राजाओं के दिलों पर Read more…

निबन्ध | Essay

‘समय’ – बद्रीनारायण चौधरी ‘प्रेमघन’

‘समय’ – बद्रीनारायण चौधरी ‘प्रेमघन’ काव्यशासस्त्र विनोदेन कालो गच्छति धीमताम। व्यसनेन च मूर्खाणां निद्रया कलहेन वा॥ यह विख्यात है कि त्रिभुवन में विजय की पताका फहराने वाला, अपने कुटिल कुत्सित परिवार से ब्राह्मणों को दुःख Read more…

error:
%d bloggers like this: