असमिया कविता: ‘पर्वत के उस पार’ – समीर ताँती

पर्वत के उस पार
कहीं लो बुझी दीपशिखा
इस पार हुआ धूसर नभ
उतरे पंछी कुछ अजनबी
नौका डूबी…

उस पार मगर वो पेड़
ताकता रहा मौन
मृदु-मन्द सुरीली गुहार
देता रहा कोई पीछे से
उतरी नयनों की गहराई
में सुन्दर हरियाली
लम्बी होती रही बौने तरु की
परछाईं अकेली
विगलित पोर उँगलियों के
बंसी टटोलते रहे रात भर
तारे सिसकते रहे
हुआ घाट निर्जन
धीरे-धीरे…

कोई किसी को भुलाता रहा
पत्ते सड़ते रहे सालों
ढहती रहीं राहें
पाने न पाने की कशमकश में
कम्पित दो अधर, और
रुका-रुका समय
उभरते रहे तन पर शहर के
चिह्न नये-नये क्रोध के
बिखरती रहीं अँधेरे में
जटाएँ संन्यासी की

मरघट में कुकुरमुत्ता
पनपते रहे, रेल चीखती रही
विवस्त्रा मुझे घेरे पड़ी रही
भूखी धरती धुँधलाई
वर्षा होती रही अनवरत
वर्षा होती रही अनवरत।

■■■

चित्र श्रेय: garudabazaar.net


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

कविताएँ | Poetry

‘देर से, बहुत देर से बतानी चाहिए जाने की ख़बर!!’ – गौरव अदीब की नयी कविताएँ

गौरव अदीब की कुछ नयी कविताएँ गौरव सक्सेना ‘अदीब’ बतौर स्पेशल एजुकेटर इंटरनेशनल स्कूल में कार्यरत हैं और थिएटर व शायरी में विशेष रुचि रखते हैं। दस वर्षों से विभिन्न विधाओं में लेखन के साथ-साथ Read more…

कविताएँ | Poetry

कविता: ‘अब माँ शांत है!’ – शिवा

‘अब माँ शांत है!’ – शिवा मुझे लोगों पर बहुत प्यार आया ज़रा संकोच न हुआ मैंने प्यार बरसा दिया अब मन शांत है मुझे लोगों पर बहुत गुस्सा आया ज़रा संकोच हुआ मैंने माँ Read more…

कविताएँ | Poetry

‘जेठ’ पर हाइकु

‘जेठ’ पर हाइकु जेठ (ज्येष्ठ) हिन्दू पंचांग के अनुसार साल का तीसरा महीना होता है और इस माह को गर्मी का महीना भी कहा जाता है। आई. आई. टी. रुड़की में कार्यरत रमाकांत जी ने Read more…

error:
%d bloggers like this: