‘श्वेतपत्र’ – शरण कुमार लिंबाले

(रूपान्तर: प्रकाश भातम्ब्रेकर)

खोये हुए बालक-सा
प्रजातन्त्र
जो माँ-बाप का नाम भी नहीं बता सकता
न ही अपना पता
और सत्ता भी
मानो नीची निगाहों से रास्ता नाप रही पतिव्रता
अपने पति-संभोग के प्रति एकनिष्ठ
यहाँ का हर प्रस्ताव पूँजीवाद का पिट्ठू
कोर्ट-कचहरी-स्कूलों के अलावा
पन्द्रह अगस्त मनता ही कहाँ है?

लाल क़िले की प्राचीर से प्रधानमन्त्री का
राष्ट्र के नाम पैग़ाम
छछोर लौंडों के रेडियो से सुनने में आता है
और छिनाल औरतों की मुँहजोरी में-
झरने वाली गाली-ग़लौज़

मैं अपनी बस्ती में लौटता हूँ दफ्तर से
अनिवार्य झण्डा-वंदन की औपचारिकता के बाद
जबकि मेरी तमाम बस्ती मोर्चा में शामिल होने…

मैं हर एक की राह में
कल्लफ लगे झकाझक वस्त्रों में
मुख्य अतिथि द्वारा फहराए गए
राष्ट्रध्वज की तरह
अपने ही भाई बन्दों से ‘जय भीम’ करते हुए
महसूस करता हूँ
अपनी सिमटी-सिकुड़ी बन्धुता…
और निषेधाज्ञा तोड़कर बन्दी बना मोर्चा
अपने ही भीतर।

■■■

चित्र श्रेय: Yianni Tzan


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

ग़ज़ल | Ghazal

ग़ज़ल: ‘ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल’ – अमीर ख़ुसरो

‘ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल’ – अमीर ख़ुसरो ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल दुराय नैनाँ बनाए बतियाँ कि ताब-ए-हिज्राँ नदारम ऐ जाँ न लेहू काहे लगाए छतियाँ शाबान-ए-हिज्राँ दराज़ चूँ ज़ुल्फ़ ओ रोज़-ए-वसलत चूँ उम्र-ए-कोताह सखी पिया को जो Read more…

कविताएँ | Poetry

कविता: ‘सूर्योदय की प्रतीक्षा में’ – कुँवर नारायण

‘सूर्योदय की प्रतीक्षा में’ – कुँवर नारायण वे सूर्योदय की प्रतीक्षा में पश्चिम की ओर मुॅंह करके खड़े थे दूसरे दिन जब सूर्योदय हुआ तब भी वे पश्चिम की ओर मुॅंह करके खड़े थे जबकि Read more…

कविताएँ | Poetry

कविता: ‘ग्लोबल वॉर्मिंग’ – शिवा

‘ग्लोबल वॉर्मिंग’ – शिवा मेरे दिल की सतह पर टार जम गया है साँस खींचती हूँ तो खिंची चली आती है कई टूटे तारों की राख जाने कितने अरमान निगल गयी हूँ साँस छोड़ती हूँ Read more…

error:
%d bloggers like this: