कविता | Poetry

खजूर बेचता हूँ – पुनीत कुसुम

न सीने पर हैं तमगे न हाथों में कलम है न कंठ में है वीणा न थिरकते कदम हैं इस शहर को छोड़कर जिसमें घर है मेरा उस ग़ैर मुल्क जाके लोगों के मुँह देखता Read more…

By Puneet Kusum, ago

Copyright © 2017 पोषम पा — All rights reserved.







Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.