दुःख के दुःख की पीड़ा

सुख की देह जितनी सूक्ष्म है
उतना ही दुःख देह पर देह लिए
औंधा लटका रहता है
जैसे ही एक देह हटती है,
दूसरी देह आकर लटक जाती है…
संसार के सभी दुःख
सभ्यता के दुःख के समक्ष
गौण हो जाते है
गिरने से बड़ा दुःख जाने का है
जाने से बड़ा दुःख ना पाने का है
ना पाने की स्थिति में जब
आदमी गिरने लगता है
तो परत दर परत चढ़ी सभ्यता की देह
जाने लगती है
और उस सुख के समान क्षणिक हो जाती है
तब सोचना पड़ता है
कि क्षणिक होती सभ्यता
दो हथेलियों के बीच रिसते हुए
क्या जान पाएगी,
हथेलियों का दुःख?
सुनो,
दुःख के दुःख की पीड़ा के लिए
कभी कोई शब्द मिले तो बताना,
मेरा शब्दकोश अपूर्ण है…