“राहुल, तुमने वो आँटी वाली इवेंट में इंटरेस्टेड क्यों किया हुआ था?”

“ऐंवेही यार! अब तुम शुरू मत हो जाना, पैट्रिआर्कि, फेमिनिज्म, कुण्डी मत खड़काओ एन ऑल।”

“क्यों ना शुरू हो जाऊँ? रीज़न दे दो, नहीं होऊँगी!”

“अच्छा एक बात बताओ.. क्या तुम्हें मेरे लिए कुण्डी मत खड़काओ गाने में प्रॉब्लम होगी?”

“नहीं!”

“तो कोई किसी के लिए ‘बोल ना आँटी आऊँ क्या’ गा रहा है तो क्या परेशानी है? यार अब ये हिपोक्रेसी है!”

नहीं, हिपोक्रेसी नहीं है। तुम इतना ब्लैक एन वाइट में क्यों सोचते हो? मैं तुम्हारे लिए कोई गाना गा दूं तो उसका मतलब यह नहीं है कि मुझे उससे कोई प्रॉब्लम नहीं है। और मुझे कोई चीज़ पर्सनली पसंद है तो उसका यह भी मतलब नहीं, कि मैं उसे पब्लिक डोमेन में लाने के लिए आज़ाद हूँ। जब आप किसी के सामने कुछ कहते हैं तो यह आप तय नहीं करते कि वो इंसान आपकी बातों से किस तरह प्रभावित होगा। तुम ही बताओ जिस तरह से तुम मेरे दिए कॉर्ड्स शो ऑफ करते हो, मेरा ये गाना या उसके आस-पास की बातें भी करोगे?”

“नहीं। लोगो की सोच ही बदल जाएगी एकदम।”

“वही तो। क्योंकि तब हम ये ‘कोई’ और ‘किसी’ नहीं रहेंगें। तब हम राहुल और निधि हो जाएंगें। और ये कोई और किसी की आड़ टूट जाएगी। पब्लिक डोमेन का कैजुअल स्टेटमेंट, पर्सनल जजमेंट बन जाएगा। हमें उसका फर्क नहीं पड़ना चाहिए.. लेकिन पड़ता है। क्योंकि हम लोगों की सोच जानते हैं। और जब तक यह सोच रहेगी, जब तक ये फर्क पड़ता रहेगा, तब तक पर्सनल और पब्लिक अलग ही रहेंगे। और वो भी मैं हूँ जो तुम्हारे प्यार में शायद चीज़ें कर दूँ वरना आजकल लोग इतने जागरूक हैं कि समाज के लिए अपना आराम, सहूलियत, प्रैफरेंसेज, ओब्लिगेशंस सब छोड़ देते हैं। मुझे भी बस वही गाना बचा है क्या तुम्हें सुनाने के लिए?”

“चलो तुम्हारी न सही, लेकिन लोगों की तो हिपोक्रेसी है ना ये? वो तो नहीं सोचते होंगें इतना!”

“तुम्हें कैसे पता? तुमने स्टैट्स बनाए हुए हैं कि ये बंदा कल हनी सिंह के गाने पर नाचा था और आज ओमप्रकाश को बैन करना चाहता है? जो नापसंद करते हैं दोनों को करते हैं, जो सपोर्ट कर रहे हैं, दोनों को कर रहे होंगें.. यार, समाज का एक हिस्सा एक बात करता है तो दूसरा हिस्सा हमेशा कोई दूसरी विपरीत बात ही करता है। तुम्हें हिपोक्रेसी की तरफ इशारा करना है तो अलग-अलग विचार रखने वाले लोगों का इंटरसेक्शन हिपोक्रेसी है, को-एक्सिस्टेंस नहीं। अच्छा तुम बताओ, तुम किस तरफ हो? या बस वही अलाप है कि यह हो सकता है तो वह क्यों नहीं हो सकता?”

“अच्छा ठीक है ना!! इंटरेस्टेड ही तो किया है, कौन-सा जा रहा हूँ?!”

“अच्छा?…”


Puneet Kusum

नाम पुनीत कुसुम है, पेशे से सॉफ्टवेर इंजीनियर हूँ (जल्दी ही यह बताना बंद करना चाहूँगा) और स्वभाव से एक सामान्य इंसान जो भीतर के द्वंद और अंतर्विरोधों से पीछा छुड़ाने का माध्यम कविताओं को मान बैठा है। हिन्दी में पोस्ट ग्रॅजुयेशन ज़ारी है और अपनी कविताओं से लोगों तक पहुँचने के प्रयास भी। पढ़ने का शौक है और पढ़ते हुए जो रत्न मिल जाते हैं, उनको दुनिया तक पहुँचाने की ललक, और इसीलिए पोषम पा। इसके अलावा किसी विशिष्ट परिचय पर अधिकार नहीं है, जैसे होता जाएगा, बताते जाएँगे। :)

2 Comments

  • Anonymous · September 19, 2017 at 2:04 pm

    Congratulations! Wish you good luck

      Shiva · September 19, 2017 at 10:54 pm

      Many thanks 🙂

  • Leave a Reply

    Related Posts

    नव-लेखन | New Writing

    कविता: ‘झेलम’ – आशीष मनचंदा

    प्रेम, भरोसा, समर्पण.. ये सारे शब्द एक ऐसी गुत्थी में उलझे रहते हैं कि किसी एक की डोर खिंचे तो तनाव दूसरों में भी पैदा होता है। बिना प्रेम भरोसा नहीं, बिना भरोसे समर्पण नहीं। Read more…

    नव-लेखन | New Writing

    बनारस का कोई मजाकिया ब्राह्मण लगता हूँ – आदर्श भूषण

    आज कुछ सत्य कहता हूँ, ईर्ष्या होती है थोड़ी बहुत, थोड़ी नहीं, बहुत। लोग मित्रों के साथ, झुंडों में या युगल, चित्रों से, मुखपत्र सजा रहें हैं.. ऐसा मेरा कोई मित्र नहीं। कुछ महिला मित्रों Read more…

    नव-लेखन | New Writing

    ‘आजा फटाफट, चिल मारेंगे’ – प्रद्युम्न आर. चौरे

    “रात सोने के लिए है।” यह एक जुमला है और यही सच भी क्योंकि मुद्दतों से फ़र्द इस जुमले की ताईद करते आए हैं। यह जुमला या यूँ कहूं कि नियम इंसान ने ही गढ़ा होगा Read more…

    error:
    %d bloggers like this: