कैसी तवाना कैसी चंचल कितनी शोख़ और क्या बेबाक
कैसी उमंगें कैसी तरंगें कितनी साफ़ और कैसी पाक
होश की बातें शौक़ की घातें जोश-ए-जवानी सीना-चाक
ख़ंदा ऐसा जैसे रक़्स
बातें ऐसी जैसे साज़
कैसी तवज्जोह कैसी मोहब्बत जिस में शामिल कम कम नाज़..

■■■