एक दोस्त की ख़ुश-मज़ाक़ी पर

हो नहीं सकता तिरी इस ‘ख़ुश-मज़ाक़ी’ का जवाब
शाम का दिलकश समाँ और तेरे हाथों में किताब
रख भी दे अब इस किताब-ए-ख़ुश्क को बाला-ए-ताक़
उड़ रहा है रंग-ओ-बू की बज़्म में तेरा मज़ाक़
छुप रहा है पर्दा-ए-मग़रिब में महर-ए-ज़र-फ़िशाँ
दीद के क़ाबिल हैं बादल में शफ़क़ की सुर्ख़ियाँ
मौजज़न जू-ए-शफ़क़ है इस तरह ज़ेर-ए-सहाब
जिस तरह रंगीन शीशों में झलकती है शराब
इक निगारिश-ए-आतिशीं हर शय पे है छाया हुआ
जैसे आरिज़ पर उरूस-ए-नौ के हो रंग-ए-हया
शाना-ए-गीती पे लहराने को हैं गेसु-ए-शब
आसमाँ में मुनअक़िद होने को है बज़्म-ए-तरब
उड़ रहे हैं जुस्तुजू में आशियानों के तुयूर
आ चला है आइने में चाँद के हल्का सा नूर
देख कर ये शाम के नज़्ज़ारा-हा-ए-दिल-नशीं
क्या तिरे दिल में ज़रा भी गुदगुदी होती नहीं
क्या तिरी नज़रों में ये रंगीनियाँ भाती नहीं
क्या हवा-ए-सर्द तेरे दिल को तड़पाती नहीं
क्या नहीं होती तुझे महसूस मुझ को सच बता
तेज़ झोंकों में हवा के गुनगुनाने की सदा
सब्ज़ा-ओ-गुल देख कर तुझ को ख़ुशी होती नहीं
उफ़ तिरे एहसास में इतनी भी रंगीनी नहीं
हुस्न-ए-फ़ितरत की लताफ़त का जो तू क़ाएल नहीं
मैं ये कहता हूँ तुझे जीने का हक़ हासिल नहीं