कविता संग्रह ‘Summer In Calcutta’ से

जब तक तुम मुझे नहीं मिले थे,
मैंनें कविताएँ लिखीं, तस्वीरें बनायीं
और, गई दोस्तों के साथ बाहर
सैर के लिए..

और अब जब मैं तुम्हें प्यार करती हूँ
लिपटा एक बूढ़े कुत्ते की भांति
मेरा जीवन विश्राम करता है, तृप्त
तुम में…

■■■

कमला दास की किताब ‘Summer In Calcutta’ खरीदने के लिए नीचे दी गयी इमेज पर क्लिक करें!

Summer in Calcutta - Kamala Das

Related Posts

Subscribe here

Don`t copy text!