‘मैला आँचल’ से आँचलिक उपन्यासों की परम्परा की शुरुआत करने वाले तथा ‘तीसरी कसम’ व ‘पंचलैट’ जैसी यादगार कहानियां लिखने वाले फणीश्वरनाथ रेणु अपने उपन्यासों और कहानियों के लिए जाने जाते हैं। आज रेणु की सालगिरह पर पोषम पा पर प्रस्तुत हैं उनकी दो कविताएँ।

अपने ज़िले की मिट्टी से

कि अब तू हो गई मिट्टी सरहदी
इसी से हर सुबह कुछ पूछता हूँ
तुम्हारे पेड़ से, पत्तों से
दरिया औ’ दयारों से
सुबह की ऊंघती-सी, मदभरी ठंडी हवा से
कि बोलो! रात तो गुज़री ख़ुशी से?
कि बोलो! डर नहीं तो है किसी का?

तुम्हारी सर्द आहों पर सशंकित
सदा एकांत में मैं सूंघता हूँ
उठाकर चंद ढेले
उठाकर धूल मुट्ठी-भर
कि मिट्टी जी रही है तो!

बला से जलजला आए
बवंडर-बिजलियाँ-तूफ़ाँ हज़ारों ज़ुल्म ढाएँ
अगर ज़िंदी रही तू
फिर न परवाह है किसी की
नहीं है सिर पे गोकि ‘स्याह-टोपी’
नहीं हूँ ‘प्राण-हिन्दू’ तो हुआ क्या?
घुमाता हूँ नहीं मैं रोज़ डंडे-लाठियाँ तो!
सुनाता हूँ नहीं–
गांधी-जवाहर, पूज्यजन को गालियाँ तो!
सिर्फ़ ‘हिंदी’ रहा मैं
सिर्फ़ ज़िंदी रही तू
और हमने सब किया अब तक!

सिर्फ़ दो-चार क़तरे ‘ध्रुव’ का ताज़ा लहू ही
बड़ी फ़िरकापरस्ती फ़ौज को भी रोक लेगा
कमीनी हरक़तों को रोक लेगा
कि अब तो हो गई मिट्टी सरहदी
(इसी से डर रहा हूँ!)
कि मिट्टी मर गई पंजाब की थी
शेरे-पंजाब के प्यारे वतन की
‘भगत’

बहुरूपिया 

दुनिया दूषती है
हँसती है
उँगलियाँ उठा कहती है …
कहकहे कसती है –
राम रे राम!
क्या पहरावा है
क्या चाल-ढाल
सबड़-झबड़
आल-जाल-बाल
हाल में लिया है भेख?
जटा या केश?
जनाना-ना-मर्दाना
या जन …….
अ… खा… हा… हा.. ही.. ही…
मर्द रे मर्द
दूषती है दुनिया
मानो दुनिया मेरी बीवी
हो-पहरावे-ओढ़ावे
चाल-ढाल
उसकी रुचि, पसंद के अनुसार
या रुचि का
सजाया-सँवारा पुतुल मात्र,
मैं
मेरा पुरुष
बहुरूपिया।


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

कविताएँ | Poetry

कविता: ‘प्रेम कविता’ – वीरेन डंगवाल

‘प्रेम कविता’ – वीरेन डंगवाल प्यारी, बड़े मीठे लगते हैं मुझे तेरे बोल! अटपटे और ऊल-जुलूल बेसर-पैर कहाँ से कहाँ तेरे बोल! कभी पहुँच जाती है अपने बचपन में जामुन की रपटन-भरी डालों पर कूदती Read more…

कविताएँ | Poetry

कुशाग्र अद्वैत की कविताएँ

कुशाग्र अद्वैत की कविताएँ कुशाग्र अद्वैत बीस वर्ष के हैं और बनारस में रहते हैं। उनके परिचय में उन्होंने केवल इतना कहा कि कविताएँ लिखते हैं। और उनकी कविताएँ पढ़ने से पहले पाठकों के लिए यह Read more…

नज़्में | Nazmein

नज़्म: ‘मेरी हस्ती मेरा नील कमल’ – परवीन ताहिर

‘मेरी हस्ती मेरा नील कमल’ – परवीन ताहिर मेरे ख़्वाब जज़ीरे के अंदर इक झील थी निथरे पानी की इस झील किनारे पर सुंदर इक नील कमल जो खिलता था इस नील कमल के पहलू Read more…

error:
%d bloggers like this: