थोड़ा-सा चमकता हुआ
थोड़ा चमक खोता हुआ
आता है समय
ख़ुद को बचाता हुआ
ख़ुद को बिखराता हुआ

एक वज़नहीन कोहरे में लिपटा यह समय
कितना भारी हो गया है

मैं खिड़कियाँ साफ़ कर देखता हूँ
सफ़ेद-सी उदास रोशनी में ठण्डे हो रहे इस शहर को
इसकी काली सड़कों पर हमारी भूख की दवाएँ नष्ट हो रही हैं

खो गया है सूरज पर्दे में
जम गयी है नदी एक मजबूर यात्रा में
आसमान का नीलापन ग़ायब है
हम किस रेलगाड़ी की सवारी पर हैं

अपने तलवों को; मुट्ठियों को गर्म करना चाहता हूँ
कि सहला सकूँ किसी का हाथ इस सर्द में
इस कोहरे में गिन सकूँ छूकर किसी मुरझाए फूल की पंखुड़ियों को…

विशेष चंद्र नमन की कविता 'पोंछना'

Recommended Book:

Previous articleवह आवाज़ जिसने करोड़ों लोगों को मंत्रमुग्ध किया
Next articleगुलाबी अयाल का घोड़ा
विशेष चंद्र ‘नमन’
विशेष चंद्र नमन दिल्ली विवि, श्री गुरु तेग बहादुर खालसा कॉलेज से गणित में स्नातक हैं। कॉलेज के दिनों में साहित्यिक रुचि खूब जागी, नया पढ़ने का मौका मिला, कॉलेज लाइब्रेरी ने और कॉलेज के मित्रों ने बखूबी साथ निभाया, और बीते कुछ वर्षों से वह अधिक सक्रीय रहे हैं। अपनी कविताओं के बारे में विशेष कहते हैं कि अब कॉलेज तो खत्म हो रहा है पर कविताएँ बची रह जाएँगी और कविताओं में कुछ कॉलेज भी बचा रह जायेगा। विशेष फिलहाल नई दिल्ली में रहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here