तुमने
उस छुरी की धार
इतनी तेज़ क्यों कर दी
जिससे कट गया गला
गला कटने की शिकायत कौन करता—
रोज़ कटते हैं गले
लेकिन वह धार इतनी पैनी थी
कि उससे कट गए
सपनों के रूपहले तार!

चाक़ू हो
या ख़ूनी तलवार
या फिर कोई भी हथियार
सभी चाहते हैं तेज़ धार

तुम्हारा क्या बिगड़ता
लोग इतना ही कहते
धार तेज़ नहीं थी।
बस इतनी-सी बात से डर गए
घुमा दिया सान का पहिया
और कर दी इतनी तेज़
उस छुरी की धार!
काट दिया किसी का सिर,
कर दी कोई उँगली घायल,
सिर केवल सिर नहीं होता
उसके साथ एक विचार कटता है
उँगली अकेली नहीं कटती
उसके साथ
दिशाबोध का ख़ून होता है!

धार तेज़ करना
मेरा पेशा है
मेरी रोज़ी है
क्या काटना
उनका भी पेशा है?
वे अपना पेशा
क्यों नहीं बदल लेते?
मैं तो ढूँढ लूँगा कोई और काम!

पूरन मुद्गल की कविता 'एक चिड़िया उसके भीतर'

Recommended Book:

Previous articleकविताएँ: दिसम्बर 2020
Next articleतेरे ख़तों की ख़ुशबू

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here