‘Ek Chidiya Uske Bheetar’, a poem by Puran Mudgal

कैसे रहे होंगे वे हाथ
जिन्होंने चिड़िया का चित्र बनाया

बहुत बार उड़े होंगे
आकाश की ऊंचाइयों में
कितनी बार सुनी होगी
चिड़िया की चहक
बच्चे की तुतली मिठास में
और
सारी उम्र किया होगा
चिड़िया-सा घोंसला बनाने का जतन

उड़ती
चहकती
तिनके चुनती
घोंसला बनाती चिड़िया
घोंसले से गिरते कुछ तिनके

वह
उठाता
सहेजता
और
करता रहता
चिड़िया-सा घोंसला बनाने का अभ्यास

क्योंकि रोज़ आ बैठती
एक चिड़िया उसके भीतर।

यह भी पढ़ें:

उषा दशोरा की कविता ‘मैंने कभी चिड़िया नहीं देखी’
महादेवी वर्मा की कविता ‘अब यह चिड़िया कहाँ रहेगी’
श्रीकांत वर्मा की कविता ‘मन की चिड़िया’
ख़्वाजा हसन निज़ामी का हास्य-व्यंग्य ‘मिस चिड़िया की कहानी’

Book by Puran Mudgal:

Previous articleरंगबिरंगी परछाइयाँ
Next articleसमय की नदी पर पुल नहीं होता (कविता संग्रह)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here