इक पल में इक सदी का मज़ा हमसे पूछिए
दो दिन की ज़िन्दगी का मज़ा हमसे पूछिए

भूले हैं रफ़्ता-रफ़्ता उन्हें मुद्दतों में हम
क़िस्तों में ख़ुदकुशी का मज़ा हमसे पूछिए

आग़ाज़-ए-आशिक़ी का मज़ा आप जानिए
अंजाम-ए-आशिक़ी का मज़ा हमसे पूछिए

जलते दियों में जलते घरों जैसी ज़ौ कहाँ
सरकार रौशनी का मज़ा हमसे पूछिए

वो जान ही गए कि हमें उनसे प्यार है
आँखों की मुख़बिरी का मज़ा हमसे पूछिए

हँसने का शौक़ हमको भी था आप की तरह
हँसिए मगर हँसी का मज़ा हमसे पूछिए

हम तौबा करके मर गए बे-मौत ऐ ‘ख़ुमार’
तौहीन-ए-मयकशी का मज़ा हमसे पूछिए!

'बात करनी मुझे मुश्किल कभी ऐसी तो न थी'

Recommended Book:

Previous articleतुम जानते हो
Next articleवेध्य

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here