Tag: Nazeer Akbarabadi

Nazeer Akbarabadi

हुस्न उस शोख़ का अहा-हाहा

हुस्न उस शोख़ का अहा-हाहा जिन ने देखा कहा अहा-हाहा ज़ुल्फ़ डाले है गर्दन-ए-दिल में दाम क्या क्या बढ़ा अहा-हाहा तेग़-ए-अबरू भी करती है दिल पर वार क्या क्या...
Nazeer Akbarabadi

क्या कहें दुनिया में हम इंसान या हैवान थे

क्या कहें दुनिया में हम इंसान या हैवान थे ख़ाक थे क्या थे ग़रज़ इक आन के मेहमान थे कर रहे थे अपना क़ब्ज़ा ग़ैर की इम्लाक...
Nazeer Akbarabadi

इंकार हम से ग़ैर से इक़रार बस जी बस

इंकार हम से ग़ैर से इक़रार बस जी बस देखे तुम्हारे हम ने ये अतवार बस जी बस इतना हूँ जा-ए-रहम जो करता है वो जफ़ा तो...
Nazeer Akbarabadi

दिल को लेकर हमसे अब जाँ भी तलब करते हैं आप

'Dil Ko Lekar Humse', by Nazeer Akbarabadi दिल को लेकर हमसे अब जाँ भी तलब करते हैं आप लीजिए हाज़िर है पर ये तो ग़ज़ब करते...
Nazeer Akbarabadi

बंजारानामा

टुक हिर्स-ओ-हवा को छोड़ मियाँ मत देस बिदेस फिरे मारा क़ज़्ज़ाक़ अजल का लूटे है दिन रात बजा कर नक़्क़ारा क्या बधिया भैंसा बैल शुतुर क्या...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)