‘Tarana-E-Bismil’ by Ram Prasad Bismil

बला से हमको लटकाए अगर सरकार फाँसी से,
लटकते आए अक्सर पैकरे-ईसार फाँसी से।

लबे-दम भी न खोली ज़ालिमों ने हथकड़ी मेरी,
तमन्ना थी कि करता मैं लिपटकर प्यार फाँसी से।

खुली है मुझको लेने के लिए आग़ोशे आज़ादी,
ख़ुशी है, हो गया महबूब का दीदार फाँसी से।

कभी ओ बेख़बर तहरीके़-आज़ादी भी रुकती है?
बढ़ा करती है उसकी तेज़ी-ए-रफ़्तार फाँसी से।

यहाँ तक सरफ़रोशाने-वतन बढ़ जाएँगे क़ातिल,
कि लटकाने पड़ेंगे नित मुझे दो-चार फाँसी से।

यह भी पढ़ें: पगड़ी सम्भाल जट्टा

Book by Ram Prasad Bismil:

Previous articleछाप तिलक सब छीनी
Next articleदिव्या माथुर द्वारा सम्पादित ‘इक सफ़र साथ-साथ’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here