“प्रेम, प्रेम, प्रेम।”

“क्या हुआ है तुम्हें, तबियत सही है ना?”

“हाँ, तबियत को क्या हुआ?! बस तीन बार कुछ बोलने का मन हुआ। आज तो बनता है, नहीं?”

“ह्म्म्म!!”

“ह्म्म्म क्या? प्यार पर भी कचहरी ले जाओगी क्या?”

“अपेक्षाओं के विरुद्ध और हठ में सना प्यार भी आवेश में दिए गए तलाक़ से कम तो नहीं? अंतर केवल इतना ही है कि एक आजादी की आड़ में घृणा है और एक प्रेम की आड़ में क़ैद…।”

“ह्म्म्म!!”

“अब तुम क्यों ह्म्म्म करने लगे? क्या सोच रहे हो?”

“यही कि हमारे बीच तो वैसा प्यार नहीं?! नहीं है ना?”

“सोचो सोचो.. ” 😉


Puneet Kusum

नाम पुनीत कुसुम है, पेशे से सॉफ्टवेर इंजीनियर हूँ (जल्दी ही यह बताना बंद करना चाहूँगा) और स्वभाव से एक सामान्य इंसान जो भीतर के द्वंद और अंतर्विरोधों से पीछा छुड़ाने का माध्यम कविताओं को मान बैठा है। हिन्दी में पोस्ट ग्रॅजुयेशन ज़ारी है और अपनी कविताओं से लोगों तक पहुँचने के प्रयास भी। पढ़ने का शौक है और पढ़ते हुए जो रत्न मिल जाते हैं, उनको दुनिया तक पहुँचाने की ललक, और इसीलिए पोषम पा। इसके अलावा किसी विशिष्ट परिचय पर अधिकार नहीं है, जैसे होता जाएगा, बताते जाएँगे। :)

2 Comments

  • Gourav · November 16, 2017 at 1:49 pm

    Hello puneet,
    Bahut achcha laga apki kavita rachna ko sun kr…bahut ki sundarta aur gahrayi hai har pankti me. Very well done.
    Kya muje aap “kahti hai to maan leti ho” rachna ka link milega, except YouTube.

    Thanks

  • Leave a Reply

    Related Posts

    नव-लेखन | New Writing

    कविता: ‘झेलम’ – आशीष मनचंदा

    प्रेम, भरोसा, समर्पण.. ये सारे शब्द एक ऐसी गुत्थी में उलझे रहते हैं कि किसी एक की डोर खिंचे तो तनाव दूसरों में भी पैदा होता है। बिना प्रेम भरोसा नहीं, बिना भरोसे समर्पण नहीं। Read more…

    नव-लेखन | New Writing

    बनारस का कोई मजाकिया ब्राह्मण लगता हूँ – आदर्श भूषण

    आज कुछ सत्य कहता हूँ, ईर्ष्या होती है थोड़ी बहुत, थोड़ी नहीं, बहुत। लोग मित्रों के साथ, झुंडों में या युगल, चित्रों से, मुखपत्र सजा रहें हैं.. ऐसा मेरा कोई मित्र नहीं। कुछ महिला मित्रों Read more…

    नव-लेखन | New Writing

    ‘आजा फटाफट, चिल मारेंगे’ – प्रद्युम्न आर. चौरे

    “रात सोने के लिए है।” यह एक जुमला है और यही सच भी क्योंकि मुद्दतों से फ़र्द इस जुमले की ताईद करते आए हैं। यह जुमला या यूँ कहूं कि नियम इंसान ने ही गढ़ा होगा Read more…

    error:
    %d bloggers like this: