चुप रहने से
निष्पक्ष नहीं हो जाते
चुप रहने से
कम नहीं होती अदु की अदावतें
चुप रहने से
बनता नहीं कोई शांति दूत
चुप रहने से
घाव भर नहीं जाते
चुप रहने से
मुक़द्दर शायद ही साथ देता हो
चुप रहने से
प्रेम बढ़ता है परत-दर-परत
चुप रहने से
चुप नहीं हो जाता है मन हमारा..

Previous articleखेत उदास हैं
Next articleन्यूटन का तीसरा नियम
आयुष मौर्य
बस इतना ही कहना "कुछ नहीं, कुछ भी नहीं "

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here