नारंगी सी एक शाम,
और उसी रंग में घुली नदी।
नदी के शांत किनारे पर,
वो छोटा सा इक लड़का,
और उसके हाथ में,
नारंगी फूलों से भरी इक डलिया,
गेंदे के फूल और वही पुरानी महक।
वही पुराना किस्सा,
उसका हक और उसका हिस्सा,
हाथों में उसके किताब नहीं है,
गेंदे के फूल उसको रास नहीं हैं।

Previous articleप्रतीक्षा और प्रतिफल
Next articleमैं तुम्हें तुम्हारी गन्ध से जानता हूँ
विवेक नाथ मिश्र
Vivek Nath Mishra's short stories have been published by The Hindu, Muse India, The Criterion, Queen mob's Teahouse, Prachya Review and many other magazines. His book 'Birdsongs of Love and Despair' is soon to be released.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here