मैंने तो पहले ही कहा था
जंगल में नहीं जाना
जंगल तुम झेल नहीं पाओगे

तुम नामवालों की दुनिया में उपजे हो
जंगल में सब कुछ निर्नाम है
पत्र तो आते हैं ढेर-ढेर
पर कोई पेड़ यह नहीं कहता
मैं पत्रकार हूँ; फ़लाँ पेड़ पण्डित
फ़लाँ मुसलमान है।

तुम शहरी ज़हर के आदी हो
जंगल को सिर्फ़ प्राण-वायु
बिखेरना आता है
कोई हड़ताल नहीं होती मधुछत्तों पर
प्रेम खुलेआम होता है।
अलग-अलग मौसम में लिखते हैं
अलग-अलग कविताएँ—फूल
मगर ऐसी कोई घोषणा
होती नहीं जंगल में…

यह कविता सादी है
यह संस्कृत
यह कविता शुद्ध जनवादी है
और तो और
वहाँ जलन नहीं होती करील को
ऊँचाई देखकर सागवान की
सरपत पी जाता है आंधी
शंकु गिरता धड़ाम से
रुकती नहीं झमकार तब भी झिल्ली की
खेल चलता निःशोक
खेल तुम खेल नहीं पाओगे
तुम जंगल झेल नहीं पाओगे।

कैलाश वाजपेयी की कविता 'रोटी और रब'
Previous articleपालतू बोहेमियन: कथेतर गद्य की रोचक पुस्तक
Next articleकिताब अंश: ‘आपका बंटी’ – मन्नू भण्डारी
कैलाश वाजपेयी
कैलाश वाजपेयी (11 नवंबर 1936 - 01 अप्रैल, 2015) हिन्दी साहित्यकार थे। उनका जन्म हमीरपुर उत्तर-प्रदेश में हुआ। उनके कविता संग्रह ‘हवा में हस्ताक्षर’ के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार प्रदान किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here