Tag: Ram

Shabri

विकास शर्मा की कविताएँ

फिरौती घनेरे पेड़ की सबसे ऊँची डाल पर बैठा था वो बाज़ पंजों में दबाए चिड़ियाघोंसले में बैठा था चिड़ा अण्डों पर; रखवाली करता।चिड़िया थोड़ा फड़फड़ायी थी कसमसायी थी, फिर समझ गई थी अपनी असमर्थता। और दुबकी पड़ी रही अक्षम, अशक्त, असहाय।बाज़ ने उसे हौले-से सिर्फ़ दबोचा था न मारा था न नोचा था।वह कभी चिड़िया को कभी घोंसले में बैठे चिड़े को घूर रहा था।कुछ देर बाद कुछ समझते हुए कुछ सहमते, झिझकते हुए चिड़ा अण्डों से उठा और जा बैठा दूर।बाज़ जो उसे रहा था घूर चिड़िया को छोड़ उड़ा और दो अण्डों में से एक उठाकर फिर उसी डाल पर लौटा।लड़खड़ाती चिड़िया उड़ी और लौटी चिड़े के पास घोंसले में।चिड़े ने चिड़िया को देखा और बाज़ ने उन दोनों को।पैनी करते अपनी चोंच सोच रहा था वह- फिर से होंगे अण्डे इस घोंसले में फिर लौटेगा वह लेने अपना हिस्सा। क़िस्सागो मेरे गाँव के बाहर इक छोटा-सा तालाब... सर्द रात में सिकुड़ जाता है ठण्ड से काँपते थरथराता है।सुबह कुनकुनी धूप में जब रज्जो, चांदो, कम्मो, सुल्ताना, कपड़ों के गठ्ठर ले आती हैं, हँसते, खिलखिलाते, रोते, बड़बड़ाते, बकते हुए गालियाँ, क़िस्से सुनाती हैं।बड़े चाव से कान टिकाये ख़ुद में घोल लेता है सब कहानी, क़िस्से, हिकायतें, मोहब्बत, शिकवे, शिकायतें।उसे नहीं पता किसका मज़हब क्या है। बस सबके मैल धो देता है। किसी की नादानी पे हँसता है, किसी की मजबूरी पे रो देता है।उनके चले जाने पर कभी ख़ुद से कभी...
Manjula Bist

तुम जलते रहोगे.. हम जलाते रहेंगे!

'Tum Jalte Rahoge, Hum Jalate Rahenge', a poem by Manjula Bistएक गणमान्य-तीर तुम्हारी नाभि पर लगा, रावण! फिर तुम दस शीशों के साथ धू-धू जल...
Adarsh Bhushan

राम की खोज

'Ram Ki Khoj', a poem by Adarsh Bhushanमुझे नहीं चाहिए वो राम जो तुमने मुझे दिया है, त्रेता के रावण का कलियुग में संज्ञा से विशेषण होना और एक नयी...

जय श्रीराम

जो दर दर भटकते थे जिनको ज़रूरत थी रोज़गार कीउन्हें वो लोग मिले जो थे दीवाने धर्म के रक्षक महान विद्वान जिन्हें चाहिए था हिन्दू राष्ट्रये लोग थे मतवाले फ़ाक़ा करने वाले घोर...
Kanwal Bharti

तब तुम्हारी निष्ठा क्या होती?

यदि वेदों में लिखा होता ब्राह्मण ब्रह्मा के पैर से हुए हैं पैदा। उन्हें उपनयन का अधिकार नहीं। तब, तुम्हारी निष्ठा क्या होती?यदि धर्मसूत्रों में लिखा होता तुम...
Woman Abstract

प्रश्न

एक नहीं सैकड़ों सीताएँ मेरे नगर में घूमती हैं। अपनी लंका छोड़ कर बहुत से रावण यहाँ पर आ गये हैं। मुझे इतना बता दो इस युग का राम किधर है?

STAY CONNECTED

38,332FansLike
20,438FollowersFollow
28,436FollowersFollow
1,730SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Thithurte Lamp Post - Adnan Kafeel Darwesh

‘ठिठुरते लैम्प पोस्ट’ से कविताएँ

अदनान कफ़ील 'दरवेश' का जन्म ग्राम गड़वार, ज़िला बलिया, उत्तर प्रदेश में हुआ। दिल्ली विश्वविद्यालय से कम्प्यूटर साइंस में ग्रेजुएशन करने के बाद उन्होंने...
Vijendra Anil

कहाँ हैं तुम्हारी वे फ़ाइलें

मैं जानता था—तुम फिर यही कहोगे यही कहोगे कि राजस्थान और बिहार में सूखा पड़ा है ब्रह्मपुत्र में बाढ़ आयी है, उड़ीसा तूफ़ान की चपेट में...
Dunya Mikhail

दुन्या मिखाइल की कविता ‘चित्रकार बच्चा’

इराक़ी-अमेरिकी कवयित्री दुन्या मिखाइल (Dunya Mikhail) का जन्म बग़दाद में हुआ था और उन्होंने बग़दाद विश्वविधालय से बी.ए. की डिग्री प्राप्त की। सद्दाम हुसैन...
Muktibodh - T S Eliot

टी. एस. ईलियट के प्रति

पढ़ रहा था कल तुम्हारे काव्य कोऔर मेरे बिस्तरे के पास नीरव टिमटिमाते दीप के नीचे अँधेरे में घिरे भोले अँधेरे में घिरे सारे सुझाव, गहनतम संकेत! जाने...
Jeffrey McDaniel

जेफ़री मैकडैनियल की कविता ‘चुपचाप संसार’

जेफ़री मैकडैनियल (Jeffrey McDaniel) के पाँच कविता संग्रह आ चुके हैं, जिनमें से सबसे ताज़ा है 'चैपल ऑफ़ इनडवर्टेंट जॉय' (यूनिवर्सिटी ऑफ़ पिट्सबर्ग प्रेस,...
Antas Ki Khurchan - Yatish Kumar

‘अन्तस की खुरचन’ से कविताएँ

यतीश कुमार की कविताओं को मैंने पढ़ा। अच्छी रचना से मुझे सार्वजनिकता मिलती है। मैं कुछ और सार्वजनिक हुआ, कुछ और बाहर हुआ, कुछ...
Shivangi

उसके शब्दकोश से मैं ग़ायब हूँ

मेरी भाषा मेरी माँ की तरह ही मुझसे अनजान है वह मेरा नाम नहीं जानती उसके शब्दकोश से मैं ग़ायब हूँ मेरे नाम के अभाव से, परेशान वह बिलकुल माँ...
Savitribai Phule, Jyotiba Phule

सावित्रीबाई फुले का ज्योतिबा फुले को पत्र

Image Credit: Douluri Narayanaप्रिय सत्यरूप जोतीबा जी को सावित्री का प्रणाम,आपको पत्र लिखने की वजह यह है कि मुझे कई दिनों से बुख़ार हो रहा...
Khoyi Cheezon Ka Shok - Savita Singh

‘खोई चीज़ों का शोक’ से कविताएँ

सविता सिंह का नया कविता संग्रह 'खोई चीज़ों का शोक' सघन भावनात्मक आवेश से युक्त कविताओं की एक शृंखला है जो अत्यन्त निजी होते...
Rahul Tomar

कविताएँ: दिसम्बर 2021

आपत्तियाँ ट्रेन के जनरल डिब्बे में चार के लिए तय जगह पर छह बैठ जाते थे तो मुझे कोई आपत्ति नहीं होती थीस्लीपर में रात के समय...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)