चाँद

‘Chand’, a poem by Amar Dalpura

शाम के झुरमुट में
पहाड़ की पीठ को चूमता हुआ सूरज
चले जाता है धरती की नींद में

वो आती है
हरे-भरे खेतों से
जैसे पीली-पीली लुगड़ी से
निकला है चाँद

मंदरा-मंदरा काज़ल
साँझ को बेचैन करता है

शब्दहीन मिलन के स्वर में
चाँद की पीठ पर
झरते हैं बबूल के पीले-पीले फूल

वह दुप्पटे की छींट में
छुपा लेती है प्रेम को!

यह भी पढ़ें: त्रिलोचन की कविता ‘अगर चाँद मर जाता’

Recommended Book: