गोटे वाली
लाल ओढ़नी
उस पर
चोली-घागरा
उसी से मैचिंग करने वाला
छोटा सा इक नागरा

छोटी सी!
ये शॉपिंग थी
या!
कोई जादू-टोना
लम्बा चौड़ा शहर अचानक
बनकर
एक खिलौना
इतिहासों का जाल तोड़ के
दाढ़ी
पगड़ी
ऊँट छोड़ के,
‘अलिफ़’ से
अम्माँ
‘बे’ से
बाबा
बैठा बाज रहा था
पाँच साल की बच्ची
बनकर जयपुर
नाच रहा था…

Book by Nida Fazli:

Previous articleफ़ैसला
Next articleअँधेरे से उजाले की ओर
निदा फ़ाज़ली
मुक़्तदा हसन निदा फ़ाज़ली या मात्र 'निदा फ़ाज़ली' हिन्दी और उर्दू के मशहूर शायर थे। इनका जन्म १२ अक्टूबर १९३८ को ग्वालियर में तथा निधन ०८ फ़रवरी २०१६ को मुम्बई में हुआ।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here