सौ में दस की भरी तिजोरी, नब्बे ख़ाली पेट
झुग्गीवाला देख रहा है साठ लाख का गेट।

बहुत बुरा है आज देश में
लोकतन्त्र का हाल,
कुत्ते खींच रहे हैं देखो
कामधेनु की खाल,
हत्या, रेप, डकैती, दंगा
हर धंधे का रेट।

…झुग्गीवाला देख रहा है साठ लाख का गेट।

बिकती है नौकरी यहाँ पर
बिकता है सम्मान,
आँख मूँदकर उसी घाट पर
भाग रहे यजमान,
जाली वीज़ा पासपोर्ट है
जाली सर्टिफ़िकेट।

…झुग्गीवाला देख रहा है साठ लाख का गेट।

लोग देश में खेल रहे हैं
कैसे-कैसे खेल,
एक हाथ में खुला लाइटर
एक हाथ में तेल,
चाहें तो मिनटों में कर दें
सब कुछ मटियामेट।

…झुग्गीवाला देख रहा है साठ लाख का गेट।

अंधी है सरकार-व्यवस्था
अंधा है क़ानून,
कुर्सीवाला देश बेचता
रिक्शेवाला ख़ून,
जिसकी उँगली है रिमोट पर
वो है सबसे ग्रेट।

…झुग्गीवाला देख रहा है साठ लाख का गेट।

कैलाश गौतम की कविता 'गाँव गया था, गाँव से भागा'

Book by Kailash Gautam:

Previous articleलो गर्द और किताबें
Next articleघर की चौखट से बाहर
कैलाश गौतम
हिन्दी और भोजपुरी बोली के रचनाकार कैलाश गौतम का जन्म चन्दौली जनपद के डिग्धी गांव में 8 जनवरी, 1944 को हुआ। शिक्षा काशी हिन्दू विश्वविद्यालय और प्रयाग विश्वविद्यालय में हुई। लगभग 37 वर्षों तक इलाहाबाद आकाशवाणी में विभागीय कलाकार के रूप में सेवा करते रहे। अब सेवा मुक्त हो चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here