Tag: Kailash Gautam

Kailash Gautam

कविता मेरी

आलम्बन, आधार यही है, यही सहारा है कविता मेरी जीवन शैली, जीवन धारा है।यही ओढ़ता, यही बिछाता यही पहनता हूँ सबका है वह दर्द जिसे मैं अपना कहता...
Kailash Gautam

कैसे-कैसे लोग

यह कैसी अनहोनी मालिक, यह कैसा संयोग कैसी-कैसी कुर्सी पर हैं कैसे-कैसे लोग!जिनको आगे होना था वे पीछे छूट गए जितने पानीदार थे शीशे तड़ से टूट गए प्रेमचंद...
Kailash Gautam

कहीं चलो ना, जी!

आज का मौसम कितना प्यारा कहीं चलो ना, जी! बलिया बक्सर पटना आरा कहीं चलो ना, जी!हम भी ऊब गए हैं इन ऊँची दीवारों से, कटकर जीना पड़ता है मौलिक...
Kailash Gautam

कल से डोरे डाल रहा है

कल से डोरे डाल रहा है फागुन बीच सिवान में, रहना मुश्किल हो जाएगा प्यारे बंद मकान में।भीतर से खिड़कियाँ खुलेंगी बौर आम के महकेंगे, आँच पलाशों पर आएगी सुलगेंगे...

सन्नाटा

कलरव घर में नहीं रहा, सन्नाटा पसरा है, सुबह-सुबह ही सूरज का मुँह उतरा-उतरा है।पानी ठहरा जहाँ, वहाँ पर पत्थर बहता है, अपराधी ने देश बचाया हाकिम कहता...
Kailash Gautam

काली-काली घटा देखकर

काली-काली घटा देखकर जी ललचाता है, लौट चलो घर पंछी जोड़ा ताल बुलाता है।सोंधी-सोंधी गंध खेत की हवा बाँटती है, सीधी-सादी राह बीच से नदी काटती है, गहराता है रंग और मौसम लहराता है।लौट...
Indian Slum People, Poverty

दस की भरी तिजोरी

सौ में दस की भरी तिजोरी, नब्बे ख़ाली पेट झुग्गीवाला देख रहा है साठ लाख का गेट।बहुत बुरा है आज देश में लोकतन्त्र का हाल, कुत्ते खींच रहे...
Poor Old Man

मेरी नींदः रेत की मछली

'Meri Neend Ret Ki Machhli', a poem by Kailash Gautamमेरी नींद रेत की मछली हुई मसहरी में।धान पान थे खेत हमारे नहरें लील गईं, जैसे फूले...
Kailash Gautam

सब जैसा का तैसा

कुछ भी बदला नहीं फ़लाने! सब जैसा का तैसा है सब कुछ पूछो, यह मत पूछो आम आदमी कैसा है? क्या सचिवालय, क्या न्यायालय सबका वही रवैया है, बाबू बड़ा...
Kailash Gautam

यही सोचकर

यही सोचकर आज नहीं निकला गलियारे में मिलते ही पूछेंगे बादल तेरे बारे में।लहराते थे झील-ताल, पर्वत हरियाते थे हम हँसते थे झरना-झरना, हम बतियाते थे इन्द्रधनुष उतरा करता था एक इशारे...

सिर पर आग

सिर पर आग पीठ पर पर्वत पाँव में जूते काठ के क्या कहने इस ठाठ के।यह तस्वीर नई है भाई आज़ादी के बाद की जितनी क़ीमत खेत की कल थी उतनी क़ीमत खाद...
Kailash Gautam

गाँव गया था, गाँव से भागा

गाँव गया था गाँव से भागा। रामराज का हाल देखकर पंचायत की चाल देखकर आँगन में दीवाल देखकर सिर पर आती डाल देखकर नदी का पानी लाल देखकर और आँख में...

STAY CONNECTED

38,332FansLike
19,561FollowersFollow
27,526FollowersFollow
1,620SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Man holding train handle

आधुनिकता

मैं इक्कीसवीं सदी की आधुनिक सभ्यता का आदमी हूँ जो बर्बरता और जंगल पीछे छोड़ आया हैमैं सभ्य समाज में बेचता हूँ अपना सस्ता श्रम और दो वक़्त की...
Justyna Bargielska

यूस्टीना बारगिल्स्का की कविताएँ

1977 में जन्मीं, पोलिश कवयित्री व उपन्यासकार यूस्टीना बारगिल्स्का (Justyna Bargielska) के अब तक सात कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं और उन्हें दो...
Saadat Hasan Manto

ख़ुशिया

ख़ुशिया सोच रहा था।बनवारी से काले तम्बाकूवाला पान लेकर वह उसकी दुकान के साथ लगे उस संगीन चबूतरे पर बैठा था जो दिन के...
Naresh Mehta

घर की ओर

वह— जिसकी पीठ हमारी ओर है अपने घर की ओर मुँह किये जा रहा है जाने दो उसे अपने घर।हमारी ओर उसकी पीठ— ठीक ही तो है मुँह यदि होता तो...
Upma Richa

या देवी

1सृष्टि की अतल आँखों में फिर उतरा है शक्ति का अनंत राग धूम्र गंध के आवक स्वप्न रचती फिर लौट आयी है देवी रंग और ध्वनि का निरंजन...
Chen Kun Lun

चेन कुन लुन की कविताएँ

चेन कुन लुन का जन्म दक्षिणी ताइवान के काओशोंग शहर में सन 1952 में हुआ। वह एक सुधी सम्पादक रहे हैं। चेन लिटरेरी ताइवान...
Bharat Ke Pradhanmantri - Rasheed Kidwai

किताब अंश: भारत के प्रधानमंत्री

सुपरिचित पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक रशीद किदवई की किताब 'भारत के प्रधानमंत्री : देश, दशा, दिशा' भारत के पहले प्रधानमंत्री से लेकर वर्तमान प्रधानमंत्री...
Muktibodh - Premchand

मेरी माँ ने मुझे प्रेमचन्द का भक्त बनाया

एक छाया-चित्र है। प्रेमचन्द और प्रसाद दोनों खड़े हैं। प्रसाद गम्भीर सस्मित। प्रेमचन्द के होंठों पर अस्फुट हास्य। विभिन्न विचित्र प्रकृति के दो धुरन्धर...
Manish Kumar Yadav

लगभग विशेषण हो चुका शासक

किसी अटपटी भाषा में दिए जा रहे हैं हत्याओं के लिए तर्क'एक अहिंसा है जिसका सिक्का लिए गांधीजी हर शहर में खड़े हैं लेकिन जब भी सिक्का उछालते...
Village, Farmer

किसान को कौन जानता है?

हवा को जितना जानता है पानी कोई नहीं जानतापानी को जितना जानती है आग कोई नहीं जानताआग को जितना जानते हैं पेड़ कोई नहीं जानतापेड़ को जितना...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)