काली-काली घटा देखकर
जी ललचाता है,
लौट चलो घर पंछी
जोड़ा ताल बुलाता है।

सोंधी-सोंधी
गंध खेत की
हवा बाँटती है,
सीधी-सादी राह
बीच से
नदी काटती है,
गहराता है रंग और
मौसम लहराता है।

लौट चलो घर पंछी
जोड़ा ताल बुलाता है।

कैसे-कैसे
दृश्य नाचने लगे
दिशाओं में,
मेरी प्यास
हमेशा चातक रही
घटाओं में,
बींध रहा है गीत प्यार का
कैसा नाता है।

लौट चलो घर पंछी
जोड़ा ताल बुलाता है।

सन्नाटे में
आँगन की बिरवाई
टीस रही,
मीठी-मीठी छुवन
और
अमराई टीस रही,
पागल को जैसे कोई
पागल समझाता है।

लौट चलो घर पंछी
जोड़ा ताल बुलाता है।

Book by Kailash Gautam:

Previous articleआभार
Next articleआँगन की धूप
कैलाश गौतम
हिन्दी और भोजपुरी बोली के रचनाकार कैलाश गौतम का जन्म चन्दौली जनपद के डिग्धी गांव में 8 जनवरी, 1944 को हुआ। शिक्षा काशी हिन्दू विश्वविद्यालय और प्रयाग विश्वविद्यालय में हुई। लगभग 37 वर्षों तक इलाहाबाद आकाशवाणी में विभागीय कलाकार के रूप में सेवा करते रहे। अब सेवा मुक्त हो चुके हैं।