यह कैसी अनहोनी मालिक, यह कैसा संयोग
कैसी-कैसी कुर्सी पर हैं कैसे-कैसे लोग!

जिनको आगे होना था
वे पीछे छूट गए
जितने पानीदार थे शीशे
तड़ से टूट गए
प्रेमचंद से, मुक्तिबोध से, कहो निराला से
क़लम बेचने वाले अब हैं करते छप्पन भोग!

कैसी-कैसी कुर्सी पर हैं कैसे-कैसे लोग!

हँस-हँस कालिख बोने वाले
चाँदी काट रहे
हल की मूँठ पकड़ने वाले
जूठन चाट रहे
जाने वाले जाते-जाते सब कुछ झाड़ गए
भुतहे घर में छोड़ गए हैं सौ-सौ छुतहे रोग!

कैसी-कैसी कुर्सी पर हैं कैसे-कैसे लोग!

धोने वाले हाथ धो रहे
बहती गंगा में
अपने मन का सौदा करते
कर्फ़्यू-दंगा में
मिनटों में मैदान बनाते हैं आबादी को
लाठी आँसू गैस पुलिस का करते जहाँ प्रयोग!

कैसी-कैसी कुर्सी पर हैं कैसे-कैसे लोग!

कैलाश गौतम की कविता 'दस की भरी तिजोरी'

Recommended Book:

Previous articleबस्ती में कुछ लोग निराले अब भी हैं
Next articleआगे जीवन दौड़ रहा है
कैलाश गौतम
हिन्दी और भोजपुरी बोली के रचनाकार कैलाश गौतम का जन्म चन्दौली जनपद के डिग्धी गांव में 8 जनवरी, 1944 को हुआ। शिक्षा काशी हिन्दू विश्वविद्यालय और प्रयाग विश्वविद्यालय में हुई। लगभग 37 वर्षों तक इलाहाबाद आकाशवाणी में विभागीय कलाकार के रूप में सेवा करते रहे। अब सेवा मुक्त हो चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here