कलरव घर में नहीं रहा, सन्नाटा पसरा है,
सुबह-सुबह ही सूरज का मुँह उतरा-उतरा है।

पानी ठहरा जहाँ, वहाँ पर
पत्थर बहता है,
अपराधी ने देश बचाया
हाकिम कहता है,
हाकिम का भी अपराधी से रिश्ता गहरा है।
सुबह-सुबह ही सूरज का मुँह उतरा-उतरा है।

हँसता हूँ जब तुम कबीर की
साखी देते हो,
पैर काटकर लोगों को
बैसाखी देते हो,
दहशत में है आम आदमी, तुमसे ख़तरा है।
सुबह-सुबह ही सूरज का मुँह उतरा-उतरा है।

ठगा गया है आम आदमी
आया धोखे में,
घर में भूत जमाए डेरा
देव झरोखे में,
गूँगों की पंचायत करने वाला बहरा है।
सुबह-सुबह ही सूरज का मुँह उतरा-उतरा है।

जैसा तुम बोओगे भाई
वैसा काटोगे,
भैंसे की मन्नत माने हो
भैंसा काटोगे,
तेरी बारी है चोरी की, तेरा पहरा है।

कलरव घर में नहीं रहा, सन्नाटा पसरा है,
सुबह-सुबह ही सूरज का मुँह उतरा-उतरा है।

Book by Kailash Gautam:

Previous articleमैं वहाँ हूँ
Next articleएक में अनेक
कैलाश गौतम
हिन्दी और भोजपुरी बोली के रचनाकार कैलाश गौतम का जन्म चन्दौली जनपद के डिग्धी गांव में 8 जनवरी, 1944 को हुआ। शिक्षा काशी हिन्दू विश्वविद्यालय और प्रयाग विश्वविद्यालय में हुई। लगभग 37 वर्षों तक इलाहाबाद आकाशवाणी में विभागीय कलाकार के रूप में सेवा करते रहे। अब सेवा मुक्त हो चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here