सिर्फ़ दो रजवाड़े थे-
एक ने मुझे और उसे
बेदख़ल किया था
और दूसरे को
हम दोनों ने त्याग दिया था।

नग्न आकाश के नीचे-
मैं कितनी ही देर
तन के मेंह में भीगती रही,
वह कितनी ही देर
तन के मेंह में गलता रहा।

फिर बरसों के मोह को
एक ज़हर की तरह पीकर
उसने काँपते हाथों से
मेरा हाथ पकड़ा-
चल! क्षणों के सिर पर
एक छत डालें
वह देख! परे… सामने… उधर…
सच और झूठ के बीच
कुछ ख़ाली जगह है!

Book by Amrita Pritam:

Previous articleसुबह
Next articleस्विस बैंक में खाता हमारा
अमृता प्रीतम
(31 अगस्त 1919 - 31 अक्टूबर 2005)पंजाब की सबसे लोकप्रिय लेखिका, कवयित्री व उपन्यासकारों में से एक।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here