मेरा आकाश छोटा हो गया है
मुझे नींद नहीं आती
कहाँ हो तुम?
इस विस्तृत परिवार के धड़कते सदस्यो!
मैं तुम्हें आवाज़ देता हूँ
मेरा आकाश छोटा हो गया है, मुझे नींद नहीं आती।

यह मेरे माथे पर
जो चोट का निशान है
यह मेरी माँ के घायल मन की पहचान है
बर्फ़ का कम्बल लपेटे
इस पेचदार खाई में
मैं टूटे पंख-सा भटकता हूँ
नीचे अनय की कीचड़ है,
शीश पर बर्बर इतिहास की ओछी चट्टान है,
कहाँ हो तुम?

इस भरे-पूरे उद्यान में महकते वृक्षो!
क्या सचमुच मेरा स्वर
तुम तक पहुँचता है?
मैं तुम्हें आवाज़ देता हूँ
मेरा आकाश छोटा हो गया है
मुझे नींद नहीं आती।

तुम, जिनकी आँखों से शंक्वाकार रोशनी निकलती है
तुम, हवा जिनसे दो क़दम पीछे चलती है
तुम, जो धरती से ऊपर, कुछ ऊपर रहते हो
तुम, जो तरुणाई के चौड़े राजमार्ग पर चक्राकार बहते हो?
तुम, जिनसे पूर्व सूर्य कभी नहीं डूबता
तुम, जिनसे जीवन कभी नहीं ऊबता
पार्क की बेंचों, सड़कों, फ़ुटपाथों पर
क्लबों, नृत्यघरों या समुद्री तटों पर
जहाँ कहीं हो तुम—
मैं तुम्हें आवाज़ देता हूँ—
मेरा आकाश छोटा हो गया है—मुझे नींद नहीं आती।

कालिदास के श्लोक और
नानक की वाणी
ग़ालिब की ग़ज़लों
सोहनी-महिवाल की कहानी
सूर के पद और शंकर के दर्शन
ढोला-मारू और रवींद्र के गुंजन
इन सबकी रक्षा के लिए
मैं तुम्हें आवाज़ देता हूँ—
सुनो—
अविवाहित रह जाने दो बहनों को
अंधी हो जाने दो राधा को
सुनो सुनो
यह सब कल के लिए छोड़ दो
आज तो बस युद्ध को
नहीं नहीं ‘आवश्यक बुराई’ को
नीचे से ऊपर तक ओढ़ लो
कहाँ हो तुम इस विस्तृत परिवार के धड़कते सदस्यो!
मैं तुम्हें आवाज़ देता हूँ
मेरा आकाश छोटा हो गया है
मुझे नींद नहीं आती।
कहाँ हो तुम इस भरे-पूरे उद्यान के महकते वृक्षो!
मैं तुम्हें दुबारा आवाज़ नहीं दूँगा
मेरा आकाश छोटा हो गया है।
मुझे नींद नहीं आती।

कैलाश वाजपेयी की कविता 'जब तुम्हें पता चलता'

Book by Kailash Vajpeyi:

Previous articleतुम हँसी हो
Next articleवह चेतावनी है
कैलाश वाजपेयी
कैलाश वाजपेयी (11 नवंबर 1936 - 01 अप्रैल, 2015) हिन्दी साहित्यकार थे। उनका जन्म हमीरपुर उत्तर-प्रदेश में हुआ। उनके कविता संग्रह ‘हवा में हस्ताक्षर’ के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार प्रदान किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here